बच्ची का शव मिलने के बाद मामले में नया मोड़

2021-07-20T00:43:52.937

ज़ीरकपुर/पंचकूला,(चंदन/गुरप्रीत): रविवार को सैक्टर-25 स्थित बंदर घाटी में जिस नाबालिग बच्ची का शव मिला था, उसके पिता का शव ठीक 28 घंटे बाद घग्गर नदी के ऊपर बने कालका-अंबाला रेलवे ट्रैक पर मिला है। सोमवार दोपहर करीब 12.45 पर डेराबस्सी जी.आर.पी. को सूचना मिली कि एक व्यक्ति का शव रेलवे ट्रैक पर पड़ा है। पुलिस को घटनास्थल पर व्यक्ति का मोबाइल, कुछ दस्तावेज व एक शराब की खाली बोतल मिली है। मौके से मिले दस्तावेजों से मृतक की पहचान सैक्टर-19 पंचकूला निवासी भूपिंदर सिंह (40) के रूप में हुई है। इसके बाद पुलिस मृतक के परिजनों को सूचना देने उसके घर पहुंची, लेकिन बच्ची के परिजन बच्ची का संस्कार करने श्मशानघाट गए हुए थे। जी.आर.पी. ने पोस्टमार्टम करवाने के लिए शव डेराबस्सी सरकारी अस्पताल में रखवा दिया है और मृतक के परिजनों को सूचना दे दी है।

 


कोचिंग सैंटर चलाता था
भूपिंदर सिंह कोचिंग सैंटर चलाता था, जबकि उसकी पत्नी लक्ष्मी भंडारी शक्ति भवन में बतौर क्लर्क तैनात है। बताया जा रहा है कि लक्ष्मी भंडारी का पति से किसी बात को लेकर झगड़ा होने के कारण वह बीते दो हफ्ते से बेटी अग्रिमा भंडारी के साथ सैक्टर-19 पॉवर कालोनी मायके आई हुई थी। शनिवार को भूपिंदर सिंह ससुराल से अपनी इकलौती 10 वर्षीय की बेटी अग्रिमा को घुमाने लेकर गया था। इसके बाद वह वापस नहीं आया।


बच्ची का गला घोंटकर की गई थी हत्या
वहीं चंडीमंदिर थाना पुलिस के अनुसार सोमवार को डॉक्टरों ने बच्ची अग्रिमा भंडारी (10) के शव का पोस्टमार्टम किया। पोस्टमार्टम के दौरान यह पता लगा है कि बच्ची का गला घोंंटकर हत्या की गई है।  विदित रहे कि रविवार सुबह थाना चंडीमंदिर की पी.सी.आर. नंबर-16 के इंचार्ज व ड्राइवर गश्त के दौरान सुबह करीब सवा नौ बजे डंपिंग ग्राऊंड चौक सैक्टर-23 से नैशनल हाईवे और बंदर घाटी की ओर से जा रहे थे।

 

उसी दौरान पुलिसकर्मियोंं ने देखा कि सड़क से नीचे बाईं तरफ जंगल में एक बच्ची का शव झाडिय़ों मे पड़ा था। बच्ची के मुंह व नाक से खून निकला हुआ था और शरीर का कुछ भाग नीला और कुछ पीला पड़ा हुआ था। शव को देखकर ऐसा लग रहा था कि बच्ची की हत्या करके उसके शव की पहचान न हो पाए, इसलिए जंगल मेेंं फंैक दिया गया है। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

ashwani

Recommended News