रेलवे की जमीन पर अवैध रेहड़ी-फड़ी

10/18/2021 12:36:05 AM

चंडीगढ़,लल्लन यादव): चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन के समीप रेलवे की खाली पड़ी जमीन पर रेहड़ी-फड़ी वालों ने कब्जा जमाया हुआ है। यही नहीं इन रेहडिय़ों पर लोग जाम छलकाते भी देखे जा सकते हैं। जहां पर ये अवैध रेहडिय़ों लगाई जा रही हैं वहां से 300 मीटर की दूरी पर चंडीगढ़ पुलिस की चौकी तथा जी.आर.पी. का थाना बना है, लेकिन इसके बाद भी इन अवैध रेहडिय़ों वाले के हौंसले इतने बुलंद हैं कि इन पर कानून का कोई असर नहीं पड़ता है।

 

दड़वा गांव के लोगों का कहना है कि यह प्रमुख रास्ता है, लेकिन शाम होते ही शराबी इन ओपन एरिया में जाम छलकाने के लिए पंहुच जाते हैं और उस रास्ते से गांव की बहन-बेटियों का निकलना मुश्किल हो जाता है। इसके बाद भी रेलवे पुलिस सो रही है। यही नहीं चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पर अलॉट हुए टी-स्टॉल संचालक भी इन रेहड़ी-फड़ी वालों से परेशान हैं, जिसकी शिकायत उन्होंने अंबाला मंडल को दे रखी है, लेकिन इसके बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। 


अवैध रेहडिय़ों पर खूब छलकते हैं जाम
रेलवे के ओपन एरिया में रोजाना अवैध रेहडिय़ां लगाई जाती हैं। इन रेहड़ी पर संचालकों की ओर से मीट तथा मछली के पकौड़े बनाए जाते हैं। जिसके चलते यहां पर शाम को रोजाना शराबियों की भीड़ लग जाती है। इसके बाद शराबियों में लड़ाई होती रहती है। यही नहीं ये शराबी इस रास्ते से जाने वाले वाहन चालकों से भी उलझ जाते हैं। इसकी शिकायत पर चंडीगढ़ पुलिस की ओर से यह कहकर पल्ला झाड़ दिया जाता है कि यह हमारे एरिया में नहीं हैं। 


गांव वाले दे चुके हैं आर.पी.एफ. व जी.आर.पी. को शिकायत
गांव के सरपंच गुरप्रीत सिंह हैप्पी का कहना हैं कि इन अवैध रेहडिय़ों पर चल रहे शराब के धंधे के खिलाफ कई बार जी.आर.पी. व आर.पी.एफ. को शिकायत कर चुके हैं, लेकिन इसके विपरीत उनकी तरफ से कोई कार्रवाई नहीं की जाती है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कई बार चंडीगढ़ पुलिस को भी लिखित रूप में शिकायत दी है, लेकिन वह रेलवे का एरिया कहकर पल्ला झाड़ देते हैं। उन्होंने कहा कि जहां पर यह अवैध रेहडिय़ां लगती हैं, उसके आसपास के घरों की महिलाओं का बाहर निकलना शाम को मुश्किल हो जाता है। सरपंच ने कहा कि कई बार पंचों की सहायता से इन्हें हटाने की कोशिश की, लेकिन पुलिस का सहयोग ना होने के कारण यह दोबारा रेहडिय़ां लगा लेते हैं। 

 


टी-स्टॉल संचालक परेशान
रेलवे की तरफ से प्लेटफार्म पर अलॉट टी-स्टॉल व स्नैक्स बार संचालक भी इन रेहड़ी-फड़ी वालों से परेशान हैं। एक टी-स्टॉल संचालक ने बताया कि रेलवे को करीब लाख रुपए किराया दे रहे हैं, लेकिन रेहड़ी-फड़ी लगी होने के कारण अधिकतर पैसेंजर बाहर ही जाते हैं, जिसका असर बिक्री पर पड़ता है। उन्होंने कहा कि रेहड़ी-फड़ी हटाने को लेकर कई बार जी.आर.पी. व आर.पी.एफ. को कह चुके हैं, लेकिन इनकी तरफ से कोई कार्रवाई नहीं की जाती है। कह सकते हैं कि रेहड़ी-फड़ी वालों को पुलिस हटाना ही नहीं चाहती है। 

रेहड़ी-फड़ी को लेकर हमारे पास कई बार शिकायत आ चुकी हैं, जिसको लेकर जी.आर.पी. व आर.पी.एफ. के आलाधिकारियों को बोला गया हैै कि अवैध रेहड़ी-फड़ी रेलवे की जमीन से हटाईं जाए। उम्मीद है कि जल्द इन्हें हटा दिया जाएगा। 
-गुरिन्द्र मोहन सिंह, डी.आर.एम., अम्बाला मंडल। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Vikash thakur

Related News

Recommended News