इस शहर के लोगों के प्यार और अपनेपन को कभी भुला नहीं सकूंगा

2020-09-26T21:25:46.91

35 साल की सर्विस के बाद इस महीने रिटायर हो रहे हैं डॉ. जी दीवान
-32 से ज्यादा नैशनल अवॉर्ड से हो चुके हैं सम्मानित 

चंडीगढ़, (रवि पाल): जितना प्यार मैं इस शहर से करता हूं, उससे कहीं ज्यादा प्यार और अपनापन मुझे यहां के लोगों ने दिया है। डॉ. गजेंद्र कुमार दीवान का नाम शहर के लिए नया नहीं हैं। साल 1985 में सैक्टर-23 की डिस्पैंसरी में बतौर मैडीकल आफिसर ज्वॉइन करने से शुरू हुआ उनका सफर चंडीगढ़ हैल्थ डायरैक्टर की पोस्ट पर इस महीने एक मोड़ लेने जा रहा है। डॉ. जी दीवान डी.एच.एस. की पोस्ट से 30 सितम्बर को रिलीव हो जाएंगे। यंू तो मार्च में उनका टेन्योर खत्म हो गया था लेकिन कोविड की वजह से उन्हें एक्सटैंशन मिली। डॉ. दीवान 35 से ज्यादा नैशनल अवॉर्ड से सम्मानित हो चुके हैं। कई बड़े प्रोजैक्ट उन्होंने शहर में शुरू किए।  


सबको साथ लेकर चले तो मिले बेहतर नतीजे
35 साल के अपने सफर को लेकर डॉ. दीवान कहते हैं कि उन्होंने अपने शुरुआती दौर से लेकर अब तक कई मुश्किल हालात जैसे वेक्टर बोर्न डिजीज, डेंगू, स्वाइन फ्लू, जैसे कई बड़ी बीमारियों को डील किया है। उनका अनुभव भी यहां काम आया लेकिन पूरे हैल्थ सैक्टर चाहे डॉक्टर्स हो, नर्सिंग, एच.ए., एस. ए, सैनीटेशन वर्कर सभी का एक बड़ा सपोर्ट रहा है। मुझे लगता मेरा ही नहीं यह वक्त हर किसी के लिए एक बड़ा चैलेंज है। मुझे याद है जब शुरुआत में कोरोना वायरस के केस आने शुरू हुए तो स्टाफ में भी बड़ा डर था जोकि जाहिर-सी बात है। ऐसे वक्त में हैल्थ डायरैक्टर से उम्मीदें होना लाजिमी है। मेरी जिम्मेदारी थी कि सबको साथ लेकर आगे बढ़ें, जिसके नतीजे पॉजीटिव रहे। आज इस कंडीशन में हैं कि कोरोना वायरस को हम बहुत अच्छी तरह से हैंडल कर रहे हैं।

बिना ब्रेक कर रहे काम
डॉ. दीवान भले ही हैल्थ डायरैक्टर की पोस्ट पर हों लेकिन पिछले 6 महीने से वे बिना ब्रेक और छुट्टी के काम कर रहे हैं। वह कहते हैं कि बड़ी पोस्ट के साथ बड़ी जिम्मेदारी आती है। लोगों की उम्मीदें आप से रहती हैं। मुझे याद है कोरोना की शुरुआत में हम लगातार 70 दिन न सिर्फ दिन में बल्कि रात में भी इसे लेकर प्लानिंग किया कर रहे थे। सभी डॉक्टर्स, मैडीकल स्टाफ, यू.टी. एडमिस्ट्रेशन का भी इसमें बड़ा सहयोग है। 


पैशेंट्स नहीं, टैस्ंिटग बढ़ी है
पिछले दो महीने से कहा जा रहा है कि कोरोना के मरीज बढ़ रहे हैं लेकिन यहां मैं कहना चाहता हूं कि टैस्ंिटग की सुविधा अब बहुत ज्यादा बढ़ाई गई है, जिसकी वजह से केस सामने आ रहे हैं लेकिन सभी मरीजों का बेहतर इलाज किया जा रहा है। इसका नतीजा यह है कि एक हफ्ते से केस कम हुए हैं। हमें समझना होगा कि यह एक महामारी है जोकि दुनियाभर में अपना असर दिखा रही है। लोगों की मौत हो रही है। इसे जाने में थोड़ा वक्त लगेगा। हमें कम से कम अगले 6 महीने सभी नियमों का पालन करना होगा ताकि इससे बचें रहे।


डिपार्टमैंट की मदद के लिए हमेशा तैयार
हैल्थ डिपार्टमैंट फ्रंट लाइन पर आकर काम कर रहा है। यह आसान नहीं है। बहुत-सा स्टाफ पॉजीटिव भी हो रहा है। इसके बावजूद उनके काम में कमी नहीं आई है। हमने घर-घर जाकर दो बार सर्वे किया है। यह बड़ा चुनौती भरा काम था। आज जी.एम. एस.एच., सिविल हॉस्पिटल 22, 45 और मनीमाजरा में मरीजों के लिए फ्री टैस्टिंग की सुविधा दी जा रही है। मेरा कार्यकाल हैल्थ डायरैक्टर की पोस्ट पर खत्म हो रहा है लेकिन डिपार्टमैंट की मदद व गाइडैंस के लिए हमेशा तैयार हूं। अगली हैल्थ डायरैक्टर को मेरी शुभकामनाएं। 
 


Edited By

AJIT DHANKHAR

Related News