पंजाब खेल मेले में विजेता खिलाडिय़ों के होंगे डोप टैस्ट, रैंडम तरीके से लिए जाएंगे सैंपल : मीत हेयर

punjabkesari.in Tuesday, Aug 09, 2022 - 09:55 PM (IST)

चंडीगढ़,(रमनजीत): पंजाब में खेल सभ्याचार फिर पैदा करने और खेल में खोई हुई शान बहाल करने के लक्ष्य के साथ खेल विभाग द्वारा आयोजित होने वाले पंजाब खेल मेले की शुरूआत मुख्यमंत्री भगवंत मान 29 अगस्त को जालंधर में करेंगे। हॉकी के जादूगर मेजर ध्यान चंद के जन्म-दिन वाले दिन राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर रंगारंग उद्घाटन समारोह के साथ यह खेल मेला शुरू होगा। खेल मेले के दौरान हिस्सा लेकर विजेता बनने वाले व अन्य खिलाडिय़ों के डोप टैस्ट भी होंगे।  पंजाब के खेल मंत्री गुरमीत सिंह मीत हेयर ने आज यहां पंजाब भवन में पत्रकारवार्ता के दौरान इस खेल मेले आयोजन की विस्तृत जानकारी साझा की। इस मौके पर खेल विभाग के प्रमुख सचिव राज कमल चौधरी और डायरैक्टर राजेश धीमान भी उपस्थित थे। 

 


खेल मंत्री मीत हेयर ने कहा कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा राज्य में खेल का माहौल सृजन करने के लिए निरंतर कोशिशें की जा रही हैं। उन्होंने राष्ट्रमंडल खेल में बेहतर प्रदर्शन करने वाले भारतीय खेल दल को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा पंजाब के पदक विजेता 18 खिलाडिय़ों के लिए नकद ईनाम का भी ऐलान किया गया है। पंजाब के 18 खिलाडिय़ों ने 3 रजत और 4 कांस्य पदक जीते। रजत पदक विजेता को 50 लाख रुपए और कांस्य पदक विजेता को 40 लाख रुपए मिलेंगे।  
 

 

4 लाख से अधिक खिलाड़ी हिस्सा लेंगे
उन्होंने बताया कि इस खेल महाकुंभ में ग्रेडेशन सूची वाली मान्यता प्राप्त खेलों में अंडर-14, अंडर-17, अंडर-21, 21-40 साल, 40-50 साल और 50 साल से अधिक उम्र वर्ग में ब्लॉक स्तर से राज्य स्तर तक 4 लाख से अधिक खिलाड़ी हिस्सा लेंगे। यह 2 महीने तक चलेगा। हिस्सा लेने के इच्छुक खिलाड़ी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं, जो 11 अगस्त से 25 अगस्त तक चलेगी। खेल मेले में पैरा-स्पोटर््स वाले खिलाड़ी के लिए भी मुकाबले होंगे। राज्य स्तर के स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक विजेताओं को 10 हजार रुपए, 7 हजार रुपए और 5 हजार रुपए और सर्टीफिकेट मिलेंगे। कुल 6 करोड़ रुपए की ईनामी राशि बांटी जाएगी। सभी विजेता खिलाड़ी राज्य की ग्रेडेशन नीति में कवर होंगे।

 

खेलों का मकसद पंजाब की युवा शक्ति को सही दिशा देकर विभिन्न खेलों के जरिए उनकी जिंदगी निखारने का है। इसीलिए खेल मेले के दौरान विजेताओं के अलावा अन्य खिलाडिय़ों के भी डोप टैस्ट किए जाएंगे ताकि यह हर हाल में सुनिश्चित किया जा सके कि खिलाड़ी किसी भी प्रकार की परफॉर्मैंस एन्हैंसर दवाएं या कोई नशा नहीं लेते हैं।  मीत हेयर ने कहा कि राज्य में खिलाडिय़ों में कौशल और क्षमता की कमी नहीं, जरूरत है केवल इसकी पहचान करके निखारने की। इस खेल मेले में पंजाब का हरेक गांव एवं शहर कवर होगा।  


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Ajay Chandigarh

Related News

Recommended News