पंजाब सस्ती बिजली खरीद कर महंगी बेच रहा: शिअद

2021-04-04T22:40:54.93

चंडीगढ़ (अश्वनी): शिरोमणि अकाली दल ने आज कहा कि कैप्टन अमरेंद्र सिंह की अगुवाई वाली सरकार द्वारा बिजली उपभोक्ताओं से दिनदिहाड़े की जा रही लूट का खुलासा केंद्रीय बिजली नियमितता आयोग (सी.ई.आर.सी.) ने करते हुए कहा है कि पंजाब देश का 15वां राज्य है, जो सस्ती बिजली खरीद रहा है।


अकाली दल के प्रवक्ता डा. दलजीत सिंह चीमा ने आज यहां एक प्रैस बयान में कहा कि सी.ई.आर.सी. ने राष्ट्रीय स्तर पर औसत बिजली खरीद लागत (ए.पी.पी.सी.सी.) दर की गणना पर विभिन्न राज्यों द्वारा की जा रही बिजली की खरीद के संबंध में एक रिपोर्ट जारी की है।

 

वित्तीय वर्ष 2020-21 की इस ए.पी.पी.सी.सी. रिपोर्ट में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि पंजाब गैर आर.ई. से बिजली की औसत लागत से 3.65 पैसे प्रति यूनिट बिजली खरीद रहा है तथा राज्य ने पिछले साल के दौरान 50883.00 मिलियन यूनिट बिजली खरीदी है। उन्होंने कहा कि इस रिपोर्ट में पंजाब को 15वां स्थान मिला है तथा यह चौंकाने वाली बात है कि हरियाणा तथा दिल्ली की तुलना में पंजाब सस्ती बिजली खरीद रहा है। उन्होंने कहा कि ट्रांसमिशन चार्ज को शामिल करने के बाद यह लागत एक करोड़ रुपए आती है जबकि पंजाब स्टेट पावर सप्लाई कॉर्पोरेशन (पी.एस.पी.सी.एल.) बिजली यूटिलिटी उपभोक्ताओं को 9.50 रुपए से लेकर 11.50 रुपए प्रति यूनिट की दर से बिजली की आपूॢत कर रहा है।

 

अकाली नेता ने राज्य सरकार से सी.ई.आर.सी. द्वारा तथ्यात्मक रिपोर्ट का जवाब देने को कहा है, जिससे कांग्रेस सरकार द्वारा सस्ती बिजली देने के दावों का पर्दाफाश हो गया है क्योंकि देश के अधिकतम राज्यों की तुलना में काफी सस्ती दरों पर बिजली मिलने के बाद भी पंजाब सरकार राज्य के उपभोक्ताओं को सबसे महंगी बिजली उपलब्ध करवा रही है। उन्होंने राज्य सरकार से अपील की है कि वह इस वास्तविकता को स्वीकार करे कि उसने 4 साल से पैसा कमाया है। अब समय आ गया है कि राज्य के बिजली उपभोक्ताओं को बहुत आवश्यक राहत प्रदान करे, जो पहले से ही राज्य में बिजली की महंगी दरों के कारण नीचे दब चुके हैं।


News Editor

Vikash thakur

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static