जोमैटो का बायोडी एनर्जी से सहयोग, उपयोग के बाद बचे खाद्य तेल से बनेगा बायो डीजल

10/21/2019 5:09:40 PM

नई दिल्ली: रेस्टोरेंटों में उपयोग के बाद बचे खाद्य तेल को एकत्र कर उसे बायो डीजल में बदला जाएगा। बायोडी ने जोमैटो के सहयोग से हरियाणा के बावल स्थित अपने संयंत्र में पके हुए खाद्य तेल से 1000 मीट्रिक टन तेल प्रासेस कर बायोडीजल बनाने का लक्ष्य रखा है। खाने के तेल की बर्बादी रोकने और खाद्य सुरक्षा व स्वास्थ्य की दिशा में यह महत्वपूर्ण पहल एफएसएसएआई के नियम को ध्यान में रखते हुए की गई है। दरअसल, एफएसएसएआई ने प्रतिदिन 50 लीटर से अधिक खाद्य तेल इस्तेमाल करने वाले फूड बिजनेस ऑपरेटरों के लिए खाद्य तेल के अधिकम तीन बार दुबारा प्रयोग का नियम अनिवार्य कर दिया है।

खाद्य सुरक्षा मिशन का लाभ लेने के मकसद से की गई साझेदारी के तहत जोमैटो रेस्टोरेंटों से उपयोग किया गया तेल एकत्र करेगा और बायोडी उसे बावल (हरियाणा) स्थित अपने प्लांट में बायो डीजल में बदल देगा। दोनों कंपनियों ने मार्च, 2020 तक प्रतिमाह 1000 मीट्रिक टन तेल प्रोसेस करने का लक्ष्य रखा है। इससे न केवल रेस्टोरेंट में परोसे जाने वाले खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता बढ़ेगी, बल्कि पर्यावरण की स्थिति में भी सुधार होगा।

बायोडी एनर्जी के ग्रुप सीईओ शिवा विज ने बताया, 'पिछले 3 वर्षों में हमने 10 लाख लीटर से अधिक यूसीओ एकत्र किया। इस साझेदारी से हमारे काम के शुरुआती चरण में बहुत मदद मिलेगी। हम तेल को बायोडीजल में बदलने की अपनी क्षमता (प्रतिमाह 3000 मीट्रिक टन) का अधिक उपयोग कर पाएंगे। सरकार 2030 तक स्वच्छ ईंधन लागू करने के नए अवसरों की तलाश में है। लिहाजा, बायो डीजल पर अधिक ध्यान देना लाजमी है।'

जोमैटो के रीतेश खेरा ने कहा, 'हमारा उद्देश्य हर एक के भोजन की गुणवत्ता में सुधार करना है। उपयोग के बाद बचे खाद्य तेल के अन्य उपयोग के लिए एफएसएसएआई की पहल और सरकार का बायो डीजल उत्पादन बढ़ाने का लक्ष्य हमें अपने शक्तिशाली सप्लाई चेन का लाभ लेते हुए इस काम को बड़े स्तर पर करने का हौसला देता है। साझेदारी के बाद जोमैटोने दिल्ली-एनसीआर के 1000 किचन से यूज्ड कुकिंग ऑयल एकत्र करना शुरू कर दिया है। अगले महीने यह बायोडी के साथ मिलकर 5 अन्य शहरों में इस का कार्य विस्तार करेगा।
 


jyoti choudhary

Related News