फर्जी फॉर्म बनाकर ​GST रिटर्न हासिल करने वालों पर सरकार की कार्रवाई, लगाया था 50 करोड़ का चूना

10/26/2020 12:45:21 PM

बिजनेस डेस्कः फर्जी फॉर्म बनाकर जीएसटी रिटर्न हासिल करने वालों पर सरकार ने सख्त कार्रवाई की है। 115 फर्जी फॉर्म संचालकों, चार्टर्ड अकाउंटेंट की पढ़ाई कर रहे एक शख्स, एक सीए फॉर्म के पार्टनर को गुजरात से गिरफ्तार किया गया है। इन लोगों ने फर्जी फॉर्म बनाकर करीब 50.24 करोड़ रुपए का जीएसटी रिटर्न और इनपुट टैक्स क्रेडिट हासिल किया। कठोर डेटा माइनिंग और डेटा एनालिटिक्स ने इस फर्जीवाड़े को पकड़ने में काफी मदद की है।

यह भी पढ़ें- निजीकरण की तेजी, सरकारी कंपनियों को प्राइवेट हाथों में सौंपने के लिए नई लिस्ट तैयार कर रहा नीति आयोग

सीए स्टूडेंट है सूत्रधार! 
सीए के थर्ड ईयर स्टूडेंट प्रिंस मनीष कुमार खत्री पर आरोप है कि वह 115 ऐसे फर्जी फॉर्म के रजिस्ट्रेशन में शामिल रहा है और उसने गलत तरीके से जीएसटी भुगतान हासिल करने के लिए इन अपात्र फॉर्मों को इनपुट टैक्स क्रेडिट हासिल करने में मदद की। वित्त मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक, ऐसे 55 संदिग्ध फॉर्मों का रजिस्ट्रेशन वड़ोदरा और अहमदाबाद कमिश्नरी जीएसटी के क्षेत्र में किया गया है। बाकी भिवंडी, गांधीनगर, जोधपुर, भावनगर और ठाणे कमिश्नरी के तहत आते हैं।

यह भी पढ़ें- इंडसइंड बैंक का खंडन, कोटक महिंद्रा के साथ विलय के लिए नहीं चल रही बातचीत

जांच से पता चला है कि ये फॉर्म सामान या सेवाओं की आपूर्ति के बिना फर्जी इनवाइस जारी करती थीं और इन फर्जी बिल के आधार पर इनपुट टैक्स क्रेडिट (ITC) हासिल कर लेती थीं।

यह भी पढ़ें-  सरकार के दखल के बाद गिरे प्याज के दाम, देखें आज क्या है 1 किलो का रेट

फर्जीवाड़े की जगह की हो गई है पहचान 
सूत्रों के अनुसार, इन फर्जी लेन-देन का आईपी एड्रेस हासिल कर लिया गया है। जीएसटी रिटर्न के लिए इन आईपी एड्रेस का इस्तेमाल किया गया था। इसी तरह वे मोबाइल नंबर भी मिल गए हैं, जिनसे जीएसटी संबंधी कार्य के लिए ओटीपी हासिल होता था। इसी तरह जिन जगहों से फर्जी फॉर्मों का रजिस्ट्रेशन हुआ है, जहां से जीएसटी रिटर्न फाइल की गई है उनकी पहचान भी कर ली गई है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

jyoti choudhary

Related News

Recommended News