बुनियादी ढांचा क्षेत्र की 373 परियोजनाओं की लागत 3.89 लाख करोड़ रुपए बढ़ी

2019-12-08T13:30:10.297

नई दिल्लीः बुनियादी ढांचा क्षेत्र की 150 करोड़ रुपए या इससे अधिक की लागत वाली 373 परियोजनाओं की लागत तय समय से देरी तथा अन्य कारणों से 3.89 लाख करोड़ रुपए बढ़ गई है। सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय 150 करोड़ रुपए या इससे अधिक लागत की परियोजनाओं की निगरानी करता है। मंत्रालय ने एक रिपोर्ट में लागत बढ़ने की जानकारी दी है।

मंत्रालय ने कहा कि इस तरह की 1,634 परियोजनाओं में से 552 परियोजनाएं देरी में चल रही हैं, जबकि 373 परियोजनाओं की लागत बढ़ी है। मंत्रालय ने अगस्त 2019 के लिए जारी हालिया रिपोर्ट में कहा, ‘‘इन 1,634 परियोजनाओं के क्रियान्वयन की मूल लागत 19,40,699.03 करोड़ रुपए थी, जिसके बढ़कर 23,29,746.02 करोड़ रुपए पर पहुंच जाने का अनुमान है। इससे पता चलता है कि इनकी लागत मूल लागत की तुलना में 20.05 फीसदी यानी 3,89,046.99 करोड़ रुपए बढ़ी है।''

रिपोर्ट के अनुसार, अगस्त तक इन परियोजनाओं पर 9,75,180.06 करोड़ रुपए खर्च हो चुके हैं, जो कुल अनुमानित लागत का 41.85 फीसदी है। हालांकि मंत्रालय का कहना है कि यदि परियोजनाओं के पूरा होने की हालिया समय सीमा के हिसाब से देखें तो देरी से चल रही परियोजनाओं की संख्या कम होकर 489 पर आ जाएंगी। मंत्रालय ने कहा कि देरी से चल रही 552 परियोजनाओं में 181 परियोजनाएं एक महीने से 12 महीने की, 128 परियोजनाएं 13 से 24 महीने की, 127 परियोजनाएं 25 से 60 महीने की तथा 116 परियोजनाएं 61 महीने या अधिक की देरी में चल रही हैं। इन परियोजनाओं की देरी का औसत 38.89 महीने है।


Supreet Kaur

Related News