अप्रैल में 30.63 अरब डॉलर का निर्यात, व्यापार घाटा 15.1 अरब डॉलर

5/15/2021 11:20:32 AM

नई दिल्लीः सरकार द्वारा शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक भारत का निर्यात अप्रैल में करीब तीन गुना बढ़कर 30.63 अरब डॉलर हो गया, जो पिछले साल इसी महीने लॉकडाउन से प्रभावित कारोबार में 10.36 अरब डॉलर ही रह गया था। आंकड़ों के मुताबिक अप्रैल 2020 में आयात भी बढ़कर 45.72 अरब अमरीकी डॉलर तक पहुंच गया, जो पिछले साल के समान महीने में 17.12 अरब डॉलर था। इस तरह भारत का व्यापार घाटा बढ़कर इस वर्ष अप्रैल में 15.10 अरब डॉलर हो गया, जो अप्रैल 2020 में 6.76 अरब डॉलर था। 

कोविड-19 महामारी के चलते लागू लॉकडाउन के चलते पिछले साल अप्रैल में निर्यात रिकॉर्ड 60.28 प्रतिशत घट गया था। इस साल मार्च में निर्यात 60.29 प्रतिशत बढ़कर 34.45 अरब डॉलर था। कम आधार प्रभाव के कारण अप्रैल 2021 के दौरान निर्यात में 195.72 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई। इस दौरान कच्चे तेल का आयात 10.8 अरब डॉलर का रहा, जो पिछले साल के इसी महीने में 4.66 अरब डॉलर था। 

समीक्षाधीन अवधि में गैर-तेल आयात 12.46 अरब डॉलर से बढ़कर 34.85 अरब डॉलर हो गया। इस दौरान सोने का आयात अप्रैल 2020 के 28.3 लाख डॉलर से बढ़कर 61.2 अरब डॉलर हो गया। अप्रैल में रत्न और आभूषण, जूट, कालीन, हस्तशिल्प, चमड़ा, इलेक्ट्रॉनिक सामान, काजू, इंजीनियरिंग, पेट्रोलियम उत्पाद, समुद्री उत्पाद और रसायन के निर्यात में सकारात्मक वृद्धि हुई। वाणिज्य सचिव अनूप वधावन ने संवाददाताओं से कहा कि भारत का निर्यात प्रदर्शन अप्रैल में प्रभावशाली रहा और निर्यात का बढ़ना आर्थिक सुधार को भी दर्शाता है। 

उन्होंने कहा, "विदेशी व्यापार में एक संतुलित तरीके से सुधार हो रहा है। हमें विश्वास है कि हम इस साल 400 अरब अमरीकी डॉलर के स्तर तक पहुंच सकते हैं।'' कुछ राज्यों द्वारा कोविड महामारी से संबंधित प्रतिबंधों के कारण लदान के प्रभावित होने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, "मुझे नहीं लगता कि हमारे निर्यात पर कोई बड़ा प्रभाव दिख रहा है।'' निर्यातकों के शीर्ष संगठन फेडरेशन आफ एक्सपोर्ट्स आर्गनाइजेशन्स के अध्यक्ष शरद कुमार सर्राफ ने कहा कि इस समय निर्यात की जाने वाली वस्तुओं पर राज्य स्तरीय शुल्क एवं कारों की छूट (आरओडीटीईपी)की दरों को शीघ्र घोषित करने की जरूरत है। इससे अनिश्चितताएं दूर होंगी और नए निर्यात अनुबंध करने में सहजता होगी। अप्रैल में सेवा निर्यात 21.17 अरब डॉलर और सेवा आयात 13 अरब डॉलर रहने का अनुमान है। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

jyoti choudhary

Recommended News

static