भारत में संचार क्रांति के मसीहा थे पंडित सुखराम

punjabkesari.in Saturday, May 14, 2022 - 05:09 AM (IST)

देश में एक समय था जब मोबाइल फोन की मात्र कल्पना की जाती थी लेकिन उस कल्पना को साकार कर स्वप्न को संकल्प में तबदील करने वाले देश व प्रदेश के दुर्गम से दुर्गम क्षेत्रों तक मोबाइल की घंटी पहुंचाने का श्रेय पंडित सुखराम जी को दिया जाता है। 

हिमाचल में एक समय था कि टैलीफोन व्यवस्था उतनी सुदृढ़ नहीं थी जितनी होनी चाहिए थी लेकिन 1991  में पंडित सुखराम जब केंद्र में संचार मंत्री बने तो हिमाचल प्रदेश में मानव संचार क्रांति का उदय हुआ। हिमाचल प्रदेश एक बहुत ही दुर्गम क्षेत्र था उस समय जहां टैलीफोन व्यवस्था को पहुंचाना अत्यंत कठिन था लेकिन दुर्गम क्षेत्र लाहौल स्पीति, किन्नौर, पांगी में भी टैलीफोन की घंटियां टन-टन करने लगी थीं, यही नहीं उस समय एस.टी.डी. बूथ बहुत ज्यादा खुले थे जिससे बेरोजगार युवाओं को रोजगार के साधन भी मिले थे। 

1963 से राजनीतिक सफर की शुरूआत करने वाले सुखराम हिमाचल प्रदेश का वह दिग्गज राजनीतिक चेहरा थे जो देश में टैलीफोन क्रांति लाए। पंडित सुखराम जी ने अब इस दुनिया को अलविदा कह दिया है। 95 साल की उम्र में उन्होंने बुधवार को दिल्ली के एम्स अस्पताल में अंतिम सांस ली।  

पंडित सुखराम के करियर की शुरूआत बतौर सरकारी कर्मचारी हुई थी। उन्होंने 1953 में नगर पालिका मंडी में बतौर सचिव अपनी सेवाएं दीं। इसके बाद 1962 में मंडी सदर से निर्दलीय चुनाव लड़ा और जीते। 1967 में इन्हें कांग्रेस पार्टी का टिकट मिला और फिर से चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे। इसके बाद पंडित सुखराम ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। उन्होंने मंडी सदर विधानसभा क्षेत्र से 13 बार चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। पंडित सुखराम ने कभी विधानसभा चुनावों में हार का मुंह नहीं देखा। केंद्र में उनकी जरूरत महसूस होने पर उन्हें लोकसभा का टिकट भी दिया गया। वह लोकसभा का चुनाव भी जीते और केंद्र में विभिन्न मंत्रालयों का कार्यभार भी संभाला। 

वह 1993 से 1996 तक दूरसंचार मंत्री रहे। एक साक्षात्कार में सुखराम ने खुद बताया था कि कैसे भारत में मोबाइल टैक्नोलॉजी लाई गई। 31 जुलाई 1995 को पहली बार भारत में मोबाइल कॉल की गई थी। मोबाइल से यह बातचीत केंद्रीय दूरसंचार मंत्री सुखराम और पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री ज्योति बसु के बीच हुई थी। 

मोबाइल भारत में लाने के पीछे की भी दिलचस्प कहानी है। उन्होंने बताया था कि एक बार वह दूरसंचार मंत्री की हैसियत से जापान गए थे। उन्होंने देखा कि ड्राइवर ने अपनी जेब में मोबाइल फोन रखा है। यह देखकर उन्हें लगा कि अगर जापान के पास यह तकनीक हो सकती है तो भारत में क्यों नहीं। वह पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को भी इस बात का क्रैडिट देते थे, जो भारत में कम्प्यूटर और टैलीफोन को घर-घर पहुंचाना चाहते थे। 

धीरूभाई से की बात : सुखराम ने अपने विजन के बारे में रिलायंस इंडस्ट्रीज के संस्थापक और दिग्गज उद्योगपति धीरूभाई अंबानी से बात की। उन्होंने कहा था कि एक दिन मोबाइल टैलीफोन इंडस्ट्री काफी प्रॉफिट में होगी। हालांकि हल्के मूड में सुखराम ने एक इंटरव्यू में कहा था कि उन्होंने यह अनुमान नहीं लगाया था कि मोबाइल फोन में कैमरा भी फिट हो जाएगा। 

वह कहते थे कि 90 के दशक में इस तरह की तकनीक की बात करने में भी काफी बाधाएं थीं। एक बार उन्होंने जनसभा में कह दिया कि एक दिन आप सबकी जेब में मोबाइल फोन होगा तो उनकी बात को संदेह भरी नजरों से देखा गया। कुछ लोगों ने सवाल किया कि घरों में पर्याप्त लैंडलाइन नहीं हैं और मोबाइल फोन की बातें हो रही हैं। वह गरीब परिवार से ताल्लुक रखते थे। अपनी प्रतिभा के दम पर उन्होंने प्रदेश व देश की राजनीति में अपना लोहा मनवाया था। 

राजनीति के चाणक्य के साथ-साथ वह संचार क्रांति के मसीहा के रूप में जाने जाते थे। वह एक कुशल राजनेता व प्रशासक माने जाते थे। 1962 से 1984 तक लगातार सदर हलके का प्रतिनिधित्व किया। इस दौरान वह लोक निर्माण, कृषि व पशुपालन मंत्री रहे। प्रदेश की राजनीति में अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज करवा कर वह मुख्यमंत्री पद की दावेदारी जताते रहे। प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री डा. यशवंत सिंह परमार के करीबी रहे। मंडी जिले से पहले मुख्यमंत्री पद के दावेदार ठाकुर कर्म सिंह के विरोध में खड़े हो गए। 

कई बार मुख्यमंत्री की कुर्सी के नजदीक पहुंच कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं चौधरी पीरू राम, पंडित गौरी प्रसाद, रंगीला राम राव व कौल सिंह के विरोध के चलते दौड़ से बाहर हुए। 1993 में तो उन्हें 22 विधायकों का समर्थन प्राप्त था। अपने ही जिले के नेताओं का विश्वास नहीं जीत पाए और मुख्यमंत्री की कुर्सी हाथ से फिसल गई। सुखराम ने 1993 से 1996 तक संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री के रूप में हिमाचल प्रदेश ही नहीं देश में संचार क्रांति का सूत्रपात कर अपनी पहचान बनाई। वह तीन बार लोकसभा सदस्य रहे। 

विकासात्मक रही सोच : पंडित सुखराम की सोच सदैव विकासात्मक रही है। विधानसभा और लोकसभा में जिस भी मंत्रालय में रहे,  उनके विभागों के कार्यालय मंडी लाने व रोजगार का सृजन करने पर अपना पूरा ध्यान केंद्रित रखा। प्रदेश में जब वह पशुपालन मंत्री थे तो गांव-गांव में मिल्क चिङ्क्षलग सैंटर खोले। इसके अलावा बतौर केंद्रीय खाद्य आपूर्ति राज्य मंत्री रहते हुए मंडी में भारतीय खाद्य निगम भंडार स्थापित किए। रक्षा राज्य मंत्री रहते हुए मंडी और हमीरपुर में सेना भर्ती कार्यालय खुलवाए। कई उतार-चढ़ावों से गुजरे राजनीतिक सफर में पंडित सुखराम एक स्थापित नेता थे। उनके द्वारा संचार क्रांति में किए गए अदम्य कार्यों के लिए देश आज भी उन्हें याद कर रहा है तथा करता रहेगा।-प्रो. मनोज डोगरा


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Related News

Recommended News