किसानों की ‘आय’ बढ़ाने के लिए करें मदद

2020-03-18T02:29:51.147

जबकि भारत की अर्थव्यवस्था में, कृषि क्षेत्र की हिस्सेदारी में उत्तरोत्तर गिरावट आई है। आज भी यह क्षेत्र प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से देश के कार्यबल के 50 प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी पर कब्जा करता है और सकल घरेलू उत्पाद (जी.डी.पी.) में 17 प्रतिशत से अधिक का योगदान देता है। हालांकि हमारे आर्थिक और सामाजिक ताने-बाने में कृषि क्षेत्र का महत्व इन संकेतों से कहीं अधिक है क्योंकि भारत के अधिकांश गरीब लोग ग्रामीण इलाकों में रहते हैं, जहां खेती आजीविका का प्राथमिक स्रोत है।

इसके अतिरिक्त बढ़ती आबादी और शहरों में बढ़ती आय के साथ किसानों को बढ़ती पैदावार के बोझ का सामना करना पड़ता है और उनकी उपज की गुणवत्ता में सुधार होता है। लेकिन कई वर्षों से हम विभिन्न कारणों से कृषि संकट में घिरे हुए हैं। वर्षों से सरकार की रणनीति, मुख्य रूप से कृषि उत्पादन बढ़ाने, खाद्य सुरक्षा में सुधार और किसानों की आय बढ़ाने की आवश्यकता को मान्यता देने की बजाय सबसिडी और छूट प्रदान करने पर केन्द्रित है। हालांकि ये अल्पावधि में मददगार साबित होते हैं। ये लंबी दौड़ के लिए प्रभावी उपाय नहीं है क्योंकि किसानों को उन्हीं मुद्दों का सामना करना पड़ रहा है जो उन्हें पहली बार में भयावह स्थिति में मिले।

किसानों को उच्च आय या आसान ऋण बेहतर उत्पादन करने में सक्षम करेगा
सरकार कर्ज माफी की बजाय किसानों को शोषण मुक्त ऋण की सुविधा प्रदान करके मदद कर सकती है। यह प्रयास किया गया है लेकिन दृष्टि और कार्यान्वयन दोनों का अभाव रहा है। यदि आसान ऋण उपलब्ध है तो किसानों को बीज, कीटनाशकों, सिंचाई सुविधाओं और यहां तक कि मशीनीकरण तक पहुंच में सुधार होगा। किसान आमतौर पर खुले बाजार के माध्यम से इन सभी सामग्रियों की खरीद करते हैं क्योंकि कोई राज्य समर्थन नहीं है, उच्च आय या आसान ऋण उन्हें अधिक/बेहतर उत्पादन करने में सक्षम करेगा। जैसे-जैसे समय के साथ खेत की आय कम या स्थिर हो जाती है, पैसा अर्जित करने के लिए वैकल्पिक उपयोग हेतु खेत का रूपांतरण पिछले एक दशक में काफी बढ़ गया है क्योंकि भूमि की कीमतों में काफी वृद्धि देखी गई है।


सारी मेहनत लगाने के बाद किसानों को अपने मजदूरों के लिए उचित मजदूरी नहीं मिलती है। यह परम्परागत रूप से मंडियों (थोक खाद्य बाजारों) में अनुचित शोषणकारी प्रथाओं और आपूॢत शृंखला में बड़ी संख्या में बिचौलियों के कारण होता है, जो उत्पादन से लेकर उपभोग तक  है। इसके अलावा अब के वर्षों के लिए कम वैश्विक कीमतों ने निर्यात को नुक्सान पहुंचाया है और सस्ते आयात को प्रोत्साहित किया है, जिससे किसान की आय में और वृद्धि हुई है। एक अति खंडित आपूर्ति शृंखला और खराब कृषि अवसंरचना कृषि संकट के लिए एक महत्वपूर्ण कारक है क्योंकि उत्पादन का 50 प्रतिशत से अधिक अकेले वितरण में बर्बाद हो जाता है।


जब उनकी उपज उपयुक्त मूल्य नहीं लेती तब किसान होता है निराश
उपरोक्त सभी योगदान कारकों के कारण किसानों की आय या तो स्थिर हो गई या कम हो गई है, जबकि उत्पादन और समर्थन सेवाओं की लागत लगातार बढ़ रही है। उच्च ब्याज दर के बावजूद किसान जोखिम उठाते हैं और खेती करने के लिए तभी निराश होते हैं जब उनकी उपज उपयुक्त मूल्य नहीं लेती। कृषि उपज का केवल एक छोटा हिस्सा न्यूनतम समर्थन मूल्य (एम.एस.पी.) प्राप्त करता है और 90 प्रतिशत से अधिक किसान व्यापारियों की दया पर होते हैं, जो बाजार मूल्य निर्धारित करते हैं। जैसे-जैसे आय अपर्याप्त होती जाती है, अधिक से अधिक किसानों को गरीबी का सामना करना पड़ता है।

Pardeep

Related News