यासीन मलिक के बचाव में उतरी महबूबा, बोलीं-कश्मीर को खुली जेल बना देंगे

नेशनल डेस्कःकेंद्र सरकार ने बड़ी कार्रवाई करते हुए जम्मू-कश्मीर के अलगाववादी संगठन जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (JKLF) को बैन कर दिया है। मोदी सरकार के इस फैसले का विरोध करते हुए जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने अलगाववादी नेता यासीन मलिक का बचाव किया है।

कश्मीर को बना देंगे खुली जेल
केंद्र सरकार ने आतंक विरोधी कानून के तहत अलगाववादी नेता यासीन मलिक के संगठन जेकेएलएफ पर प्रतिबंध लगाया तो महबूबा मुफ्ती ने कहा कि यासीन मलिक ने जम्मू-कश्मीर का मुद्दा सुलझाने के लिए माफी पहले हिंसा छोड़ दी है। महबूबा मुफ्ती ने कहा कि उनके संगठन को बैन करने से क्या हासिल होगा। इस तरह के फैसलों से कश्मीर सिर्फ एक खुली जेल में तब्दील हो जाएगा।

बता दें कि केंद्रीय गृह सचिव राजीव गाबा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि जेकेएलएफ को प्रतिबंधित कर दिया गया है, क्योंकि सरकार आतंकवाद को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं कर सकती। आतंकवाद को बढ़ावा देने में जेकेएलएफ का हाथ है और यही संगठन कश्मीरी पंडितों के पलायन के लिए भी जेकेएलएल जिम्मेदार है।

गौरतलब है कि महबूबा मुफ्ती कश्मीर में अलगाववादियों पर केंद्र सरकार की सख्ती को लेकर भड़कती रही हैं. इससे पहले भी कई बार महबूबा मुफ्ती ने यासीन मलिक का बचाव किया और हिरासत में लिए जाने पर भी सवाल उठाए हैं। पुलवामा आतंकी हमले के बाद अलगाववादियों पर केंद्र सरकार की सख्ती और यासीन को हिरासत में लिए जाने पर कहा था कि इस तरह से केंद्र की मनमर्जी जम्मू-कश्मीर में मुद्दों को और उलझ रही है।

Related Stories:

RELATED महबूबा ने साध्वी प्रज्ञा से यासीन मलिक की तुलना, रिहाई की मांग