Office में इस रंग के पेंट से मिलेगी तरक्की

ये नहीं देखा तो क्या देखा(video)
वास्तु शास्त्र के अनुसार अगर घर या ऑफिस में वास्तु दोष हो तो इसका असर परिवार वालों और ऑफिस वालों की सेहत पर भी पड़ सकता है। इसलिए ऑफिस या घर हमेशा वास्तु का हिसाब से ही बनवाना बेहतर होता है। कई लोग छोटी-छोटी बातों को नजरअंदाज कर देते हैं लेकिन उन्हें बाद में इसका नुकसान उठाना पड़ सकता है। कई बार ऐसा देखने को मिलता है कि व्यक्ति को ऑफिस में आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है जिसका कारण वास्तु दोष हो सकता है। तो अगर ऑफिस को वास्तु के हिसाब से बनाया जाए तो इसका प्रभाव कम किया जा सकता है। तो चलिए आज हम आपको बताएंगे कि कैसे ऑफिस को वास्तु के हिसाब से बनाया जा सकता है और उसके साथ ही चल रही हम समस्या को खत्म किया जा सकता है।


वास्तु के अनुसार बॉस का केबिन सबसे पहले नहीं होना चाहिए। मुख्य द्वार के पास किसी का सहायक केबिन होना चाहिए जोकि ऑफिस में आने वाले हर शख्स को जानकारी दे सके।  

दरवाजे की सीध में किसी कर्मचारी को न बैठाएं।

वास्तु के मुताबिक ऑफिस में हरे या गहरे रंग का प्रयोग नहीं करना चाहिए। इसके लिए सफ़ेद, क्रीम या पीला जैसे हल्के रंग का उपयोग करना ही बेहतर होता है।

ऑफिस में पीने के पानी की व्यवस्था उत्तर-पूर्व में करनी चाहिए। यदि धरातल से ऊंचे स्थान पर पानी रखना हो तो अपनी सुविधानुसार किसी भी स्थान पर रख सकते हैं।

माना गया है कि कुबेर का वास उत्तर दिशा में होता है। इसलिए जहां तक संभव हो ऑफिस में कैशियर को उत्तर दिशा में ही बैठाएं।

विद्युत उपकरण, कम्प्यूटर आदि ऑफिस के दक्षिण-पूर्व में ही लगाए जाने चाहिए।

अगर ऑफिस में वेटिंग रूम बनवाना हो तो उत्तर दिशा का ही चुनाव करें। कान्फ्रेंस/मीटिंग हॉल भी उत्तर दिशा में शुभ माना गया है।

कभी भी एक टेबल पर एक से ज्यादा कर्मचारियों को नहीं बैठाना चाहिए। इससे कर्मचारी के काम और सेहत पर प्रभाव पड़ सकता है।
31 जनवरी को है षटतिला एकादशी, जानें, उससे जुड़ी अनोखी जानकारी(video)

Related Stories:

RELATED पद पर रहते हुए दिवंगत होने वाले 17वें मुख्यमंत्री थे पर्रिकर