Kundli Tv- इस दवाई से दूर होती है सभी तरह की टेंशन

ये नहीं देखा तो क्या देखा (देखें VIDEO)
अपनापन तो हर कोई दिखाता है पर अपना कौन है यह तो वक्त ही बताता है।

जीवन में तकलीफ उन्हीं को आती है, जो हमेशा जिम्मेदारी उठाने को तैयार रहते हैं और जिम्मेदारी लेने वाले कभी हारते नहीं। या तो जीतते हैं या फिर सीखते हैं।


भगवान सिर्फ वहां नहीं है जहां हम प्रार्थना करते हैं, भगवान वहां भी है जहां हम गुनाह करते हैं।

जिंदगी कभी किसी की भी आसान नहीं होती इसे आसान बनाना पड़ता है, कुछ नजरअंदाज करके कुछ बर्दाश्त करके।

खुदगर्जों की बस्ती में मदद भी एक गुनाह है, जिसे तैरना सिखाओ, वही डुबोने को तैयार है।

झूला जितना पीछे जाता है ठीक उसी के बराबर उतना ही आगे भी आता है। इसी तरह सुख और दुख दोनों ही जीवन में बराबर आते और जाते हैं।

रिश्ता कभी खत्म नहीं होता बातों से छूटा तो आंखों में रह जाता है, आंखों से छूटा तो यादों में रह जाता है।

कोई रुठ जाए तो उसे फौरन मना लो क्योंकि जिद की जंग में अक्सर दूरियां जीत जाती हैं।

क्रोध के समय थोड़ा रुक जाएं, गलती के समय थोड़ा झुक जाएं तो संसार की बहुत सी समस्याएं हल हो सकती हैं।

अगर रास्ता खूबसूरत है तो पता करो कि किस मंजिल की तरफ जाता है लेकिन मंजिल खूबसूरत हो तो रास्ते की परवाह मत करो।          —जगजीत सिंह भाटिया, नूरपुर बेदी

गंगा स्नान करने से शरीर तो पवित्र हो जाता है परन्तु तन-मन तो सत्संग में आकर संतों-महापुरुषों की संगत करने से ही पवित्र होता है। नम्र वाणी बोलो, बड़ों का आदर करो, परिवार में सुख-समृद्धि बनी रहेगी।      —बावा लाल जी

जिनका बचपन बड़े-बुजुर्गों के साथ जुड़ जाता है, उनकी नींव मज़बूत हो जाती है। बुजुर्गों से जो कुछ सीखने को मिलता है वह किसी स्कूल या कालेज से नहीं मिलता। बुजुर्गों के बताए हुए रास्ते पर चलोगे तो किसी से मार नहीं खाओगे।    —विजय शंकर

भक्त की पहचान माला फेरने या तिलक लगाने से ही नहीं होती। दूसरों के दुख़ में शामिल होना और उनकी सहायता करने से होती है।                   —जनार्दन हरि

क्रोध और अहंकार को त्याग दो। मन को धैर्यवान बना लो। आपके कष्ट-क्लेश मिट जाएंगे। ऐसी सोच बना लें कि मैं किसी से द्वेष भाव नहीं रखूंगा। झगड़ा नहीं करूंगा।      —गोविंद गिरि
सावन की किस पूजा ने श्रीराम को दिलाई थी जीत (देखें VIDEO)
 

Related Stories:

RELATED Kundli Tv- Successful Marriage के लिए लड़के-लड़की के कितने गुण मिलना जरूरी है ?