भारत-बांग्लादेश के बीच बढ़ते रिश्ते, किया दो परियोजनाओं का शिलान्यास

नई दिल्लीःप्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और बंगलादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने भारत और बंगलादेश की दो संयुक्त विकास परियोजनाओं-भारत बंगलादेश मैत्री पाइपलाइन और ढाका-टोंगी-जयदेवपुर रेलवे लाइन की संयुक्त रूप से आधारशिला रखी। नई दिल्ली एवं ढाका से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से दोनों नेताओं ने दोनों परियोजनाओं की शिलान्यास पट्टिका का अनावरण किया। इस मौके पर नई दिल्ली में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान भी मौजूद थे।



मोदी ने अपने संबोधन में आपसी सीमा के दोनों ओर 1965 के पहले की कनेक्टिविटी बहाल करने के श्रीमती हसीना के संकल्प को याद किया और कहा कि किसी भी देश के विकास के लिए ऊर्जा एक आधारभूत आवश्यकता है। आज जिस भारत-बंगलादेश मैत्री पाइपलाइन पर काम शुरू हुआ है, वह विकास के लिए आपसी सहयोग के महाकाव्य में एक नया अध्याय जोड़ेगी और बंगलादेश के महत्वाकांक्षी विकास लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए संबल बनेगी। उन्होंने कहा कि इससे बंगलादेश के उत्तरी हिस्से में यह पाइपलाइन सस्ते दाम पर ऊर्जा उपलब्ध कराएगी।



मोदी ने कहा, मुझे खुशी है कि ढाका- टोंगी-जयदेवपुर जैसी परियोजनाएं हमारी कनेक्टिविटी को 21वीं सदी की कारूरतों के मुताबिक आकार दे रही हैं। न सिर्फ ढाका के जन साधारण को और सड़क यातायात से राहत देगा, बल्कि मालवहन राजस्व भी बढ़ाएगा। मुझे विश्वास है कि इस रेल परियोजना से बंगला देश के राष्ट्रीय और शहरी परिवहन को सुधारने की मुहिम में भी सहायता मिलेगी।



पीएम ने इस बात पर खुशी जाहिर की कि दस दिनों के अंदर भारत एवं बंगलादेश के बीच वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पांच परियोजनाओं का लोकार्पण किया गया है और कहा कि आने वाले समय में दोनों देशों के लोगों के उज्जवल भविष्य के लिए हम इसी भावना से काम करते रहेंगे।

Related Stories:

RELATED भगोड़े आर्थिक अपराधियों को कहीं छुपने नहीं देगी सरकार: मोदी