राफेल सौदे पर प्रधानमंत्री दें जवाब : भाकपा

चेन्नईः भाकपा ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया कि वह राफेल सौदे पर ‘‘पाक साफ होकर बाहर आयें’’ और स्पष्ट करें कि सरकारी एचएएल की बजाय एक निजी कंपनी को फ्रांसीसी एयरोस्पेस कंपनी का आफसेट साझेदार क्यों चुना गया।

भाकपा के राष्ट्रीय सचिव डी राजा ने इस बात पर जोर दिया कि सौदे में मोदी ने ‘‘महत्वपूर्ण भूमिका’’ निभायी। उन्होंने कहा कि उनका एक स्पष्टीकरण बनता है और उनकी ‘चुप्पी’ से इसकी आशंकाएं उत्पन्न हो रही हैं कि सरकार कुछ छुपा रही है। मोदी ने 10 अप्रैल 2015 को पेरिस में फ्रांस के तत्कालीन राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के साथ वार्ता के बाद 36 राफेल विमानों की खरीद की घोषणा की थी।

राजा ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री को बोलना होगा। वह सौदे में सीधे तौर पर शामिल थे। मूलभूत सवाल है कि क्यों एचएएल (हिंदुस्तान एयरोनाटिक्स लिमिटेड) को छोड़ दिया गया और उन्होंने रिलायंस डिफेंस का चयन किया।’’ उन्होंने कहा कि ये कुछ वास्तविक सवाल हैं जिसका जवाब लोग चाहते हैं। उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री अरूण जेटली या रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की बजाय मोदी को जवाब देना चाहिए।

Related Stories:

RELATED राजस्थानः बागी पार्टियां बनीं भाजपा-कांग्रेस की मुसीबत