पीएम मोदी ने पेश किया सरकार बनाने का दावा, राष्ट्रपति ने दिया न्यौता

नेशनल डेस्क: राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के नेता नरेन्द्र मोदी ने शनिवार रात को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से भेंट कर नयी सरकार बनाने का दावा पेश किया, जिसके बाद राष्ट्रपति ने उन्हें नयी सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया। इससे पहले राजग के घटक दलों के नेताओं ने मोदी को गठबंधन का नेता चुने जाने और अपने समर्थन का पत्र राष्ट्रपति को सौंपा। इससे पूर्व संसद के केंद्रीय कक्ष में राजग संसदीय दल की बैठक में मोदी को पुन: नेता चुना गया। इसके कुछ ही देर बाद मोदी राष्ट्रपति भवन गये और सरकार बनाने का दावा पेश किया, इस पर राष्ट्रपति ने उन्हें नयी सरकार बनाने का न्योता दिया।


राजग के प्रतिनिधिमंडल में भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष अमित शाह, शिरोमणि अकाली दल के नेता प्रकाश सिंह बादल, जनता दल यू के प्रमुख नीतीश कुमार, लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष राम विलास पासवान, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, अन्नाद्रमुक नेता के. पलानीसामी, नेशनल पीपुल्स पार्टी के नेता कोनाडर् संगमा तथा नेशनल डेमोक्रेटिक प्रोगेसिव पार्टी के नेता नेफियू रियो, भाजपा के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह, सुषमा स्वराज तथा नितिन गडकरी शामिल थे।

मोदी ने सत्रहवीं लोकसभा के चुनाव सम्पन्न होने और परिणाम आने के बाद कल राष्ट्रपति से मिलकर उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया था। राष्ट्रपति ने उनसे नयी सरकार के गठन तक पद पर बने रहने का अनुरोध किया था। इस बीच, मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा तथा दोनों चुनाव आयुक्त ने कोविंद से आज मिलकर 17वीं लोकसभा के नवनिर्वाचित सदस्यों की सूची सौंपी थी।

मोदी ने सत्रहवीं लोकसभा के चुनाव सम्पन्न होने और परिणाम आने के बाद कल राष्ट्रपति से मिलकर उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया था। राष्ट्रपति ने उनसे नयी सरकार के गठन तक पद पर बने रहने का अनुरोध किया था। इस बीच, मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा तथा दोनों चुनाव आयुक्त ने कोविंद से आज मिलकर 17वीं लोकसभा के नवनिर्वाचित सदस्यों की सूची सौंपी थी।


इसके बाद शिरोमणि अकाली दल के नेता प्रकाश सिंह बादल ने मोदी को राजग संसदीय दल का नेता चुनने का प्रस्ताव पेश किया। जनता दल यू के प्रमुख एवं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, लोक जनशक्ति पाटर्ी प्रमुख रामविलास पासवान, अन्नाद्रमुक के नेता एवं तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ई के पलानीसामी, नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी के प्रमुख एवं नागालैंड के मुख्यमंत्री नेफियू रियो तथा नेशनल पीपुल्स पार्टी के प्रमुख एवं मेघालय के मुख्यमंत्री कोनाडर् संगमा ने प्रस्ताव का अनुमोदन किया।

इसके बाद राजग के नवनिर्वाचित सांसदों ने दोनों हाथ उठाकर तथा मेजें थपथपाकर इसका समर्थन किया। अपना दल, राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी तथा राजग के अन्य घटक दलों की ओर से भी मोदी को नेता चुनने के समर्थन में पत्र भेजे गये थे।  बैठक में भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी तथा सुषमा स्वराज भी मौजूद थी। इसके अलावा भाजपा तथा राजग के अन्य घटक दलों के शासन वाले राज्यों के मुख्यमंत्री एवं उप मुख्यमंत्री तथा कुछ अन्य नेता भी उपस्थित थे।

 

Related Stories:

RELATED उप-चुनाव के लिए कई कांग्रेसियों ने की दावेदारी पेश