बारिश ने तोड़े किसानों के अरमान, धान, कपास व बाजरे की फसल बुरी तरह प्रभावित

गोहाना (सुनील जिंदल): गोहाना में लगातार दो दिन तक हुई बारिश ने किसानों के अरमानों पर पानी फेर दिया है। इस बार बेहतर पैदावार की उम्मीद में बैठे किसानों के सपने टूट गए हैं। बारिश ने फसलों को बुरी तरह से प्रभावित किया है। असमय हुई बारिश का धान, कपास और अन्य फसलों पर काफी बुरा असर हुआ है। किसानों ने बारिश सेे खराब हुई फसलों की विशेष गिरदावरी कराकर मुआवजा देने की मांग की है। वहीं, कृषि विभाग के अधिकारियों का कहना अगर और बारिश होती है तो फसलों को और ज्यादा नुकसान हो सकता है।



प्रदेश भर में पिछले दो दिनों से लगातार हो रही बारिश ने किसानों की हालत नाजुक कर दी है। बारिश होने से धान की फसल के अलावा सब्जियों और कपास की फसल पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। किसानों का कहना है कि गोहाना व बरोदा हलके में आने वाले दर्जनों से अधिक गांवों में पिछले दो दिन से हो रही बारिश ने किसानों की फसलों को भारी नुकसान पहुंचाया है। 

कपास फसल पर सबसे ज्यादा पड़ा असर
किसानों ने बताया कि खेतों में बारिश का पानी खड़ा होने से किसानों की फसल पूरी तरह से खराब हो चुकी है। दो दिन तक लगातार हुई बारिश के कारण कपास की फसल पर सबसे ज्यादा असर पड़ा है। एक ही रात में पूरी फसल बर्बाद हो गई। बारिश से सारी कपास जमीन पर गिर गई तथा फसल में जो फल आया हुआ था, वह खराब हो गया है। अब जो फसल खेत में खड़ी है, उसे खेत से बाहर निकालने पर भी दोहरा खर्च होगा। जबकि पैदावार नहीं के बराबर होगी।



बीमा क्लेम करने में भी किसान को दोहरी समस्या
वहीं, किसान अपनी खऱाब हुई फसलों की गिरदावरी करने की मांग को लेकर गोहाना कृषि विभाग के ऑफिस पहुंच रहे हैं। किसानों का कहना है कि सरकार ने फसल बीमा योजना के नाम पर उनके खातों से पैसे काट रखे हैं। किसानों ने खेतों में बाजरे व कपास की फसल की खेती कर रखी है, लेकिन सरकार ने फसल बीमा योजना के नाम पर धान की फसलों का ही बीमा कर रखा है, जिसके चलते अब किसानों के सामने दोहरी समस्या खड़ी हो गई है।



अभी और फसलें हो सकती हैं बर्बाद
गोहाना कृषि विभाग के अधिकारी राजेंदर मेहरा ने बताया कि इस बेमौसमी बारिश से किसानों की फसलों को बड़ा नुकसान हुआ है। अगर आने वाले एक-दो दिन और बारिश होती रही तो और भी ज्यादा नुकसान होगा।

48 घंटे के अंदर फॉर्म जमा करवा कर लें बीमा लाभ
उन्होंने बताया कि जिन किसानों ने अपनी फसलों का बीमा करवाया हुआ है, वे किसान कृषि विभाग में आकर खऱाब हुए फसलों के लिए 48 घंटे के अंदर अपना फॉर्म भर कर जमा करवा सकते हैं, ताकि उनको समय पर फसल बीमा योजना का लाभ मिल सके।

Related Stories:

RELATED राष्ट्रपति से सम्मानित वैद्य ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिखा 4 पुलिसकर्मियों का नाम