‘पंजाब कांग्रेस तथा सरकार में घमासान’ ‘यह क्या कर रहे हो, यह क्या हो रहा है’

5/21/2021 5:29:17 AM

किसी समय ‘ग्रैंड ओल्ड पार्टी’ कहलाने वाली कांग्रेस न सिर्फ हाशिये पर आ गई है बल्कि इसकी राजस्थान, चंडीगढ़, हरियाणा आदि इकाइयों में लगातार कलह जारी है और अब कुछ दिनों से पंजाब की कांग्रेस सरकार में भी मचा घमासान चर्चा का विषय बना हुआ है। पहले जहां स. नवजोत सिंह सिद्धू के मामले पर पंजाब कांग्रेस के अधिकांश नेता मुख्यमंत्री स. अमरेंद्र सिंह के साथ थे परंतु अब अनेक नेताओं ने विभिन्न मुद्दों पर स. अमरेंद्र सिंह के विरुद्ध बोलना शुरू कर दिया है। 

इसी सिलसिले में 18 मई को कैबिनेट मंत्री स. चरणजीत सिंह चन्नी तथा जेल मंत्री स. सुखजिंद्र सिंह रंधावा के घर दर्जन भर कांग्रेसी नेताओं की बैठकें हुईं जिनमें स. सुखजिंद्र सिंह रंधावा सहित 2 मंत्री, राज्यसभा सांसद स. प्रताप सिंह बाजवा तथा स. परगट सिंह सहित कुछ विधायक भी शामिल हुए। स. प्रताप सिंह बाजवा ने विधायक स. परगट सिंह को मुख्यमंत्री स. अमरेंद्र सिंह के सलाहकार संदीप संधू द्वारा दी गई धमकी तथा स. नवजोत सिद्धू के विरुद्ध विजीलैंस कार्रवाई का मुद्दा उठाते हुए कहा कि मुख्यमंत्री अमरेंद्र सिंह गलत लोगों के साथ काम कर रहे हैं। लोग अकालियों का हिसाब मांग रहे थे, हमने अपनों के ही विरुद्ध मोर्चे खोल दिए हैं। 

स. प्रताप सिंह बाजवा ने बेअदबी मामले में बादल परिवार के विरुद्ध कार्रवाई करने, राज्य में ड्रग माफिया समाप्त करने व पार्टी नेताओं पर कार्रवाई न करने की मांग करते हुए कहा,‘‘वह अगले 45 दिनों में हालात सुधार लें वर्ना इसके बाद वह भी आजाद हैं और हम भी आजाद हैं।’’ ‘‘हम अपनी पार्टी के किसी भी नेता के विरुद्ध कार्रवाई नहीं होने देंगे और विधायक स. परगट सिंह को धमकी का मामला हाईकमान तक लेकर जाएंगे।’’ 

जेल मंत्री स. सुखजिंद्र सिंह रंधावा का कहना है कि ‘‘हमारी लड़ाई गुरु ग्रंथ साहब की बेअदबी करने वाले आरोपियों को सजा दिलवाने के लिए है। न जाने कौन यह मामला दबाना चाहता हैै।’’ इसी प्रकार कैबिनेट मंत्री स. चरणजीत सिंह चन्नी के मामले में महिला आयोग पंजाब की अध्यक्ष की शिकायत पर तीन वर्ष बाद कार्रवाई पर भी स्थिति स्पष्टï करने की ‘नाराज धड़े’ द्वारा मांग की जा रही है। 

स. परगट सिंह ने संदीप संधू पर प्रापर्टी को लेकर उनके विरुद्ध विजीलैंस जांच शुरू करने की धमकी देने का आरोप लगाया है। स. परगट सिंह के अनुसार संदीप संधू ने कहा है कि यह मु यमंत्री का ही संदेश है। इसी बारे स. नवजोत सिंह सिद्धू ने सोशल मीडिया पर लिखा है कि ‘‘जो कोई भी मुंह खोलता है, वह आपका दुश्मन बन जाता है।’’ ‘‘न ही चुनावी वादे पूरे होने बारे कोई कदम उठाया गया, न नशों व न ही बेअदबी मामले में कोई कार्रवाई की गई। आपने सिर्फ बादलों व मजीठिया को बचाने के लिए ही अपनी पार्टी के लोगों के विरुद्ध कार्रवाई की है।’’ 

पंजाब कांग्रेस में चल रहे विवाद में विधायक स. सुरजीत सिंह धीमान भी शामिल हो गए हैं जिनका कहना है कि ‘‘मु यमंत्री अमरेंद्र सिंह के शासनकाल में न ही नशा स ााप्त हुआ और न ही बेअदबी कांड के दोषियों को सजा मिली। पार्टी के विधायकों व मंत्रियों को धमकाने से कुछ नहीं होगा। वे सिर्फ जनता से किए गए चुनावी वायदों की याद दिला रहे हैं जिन्हें पूरा न करने की कीमत हमें चुकानी पड़ेगी।’’ इन हालात के बीच प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने पार्टी नेताओं के विरुद्ध विजीलैंस जांच की मांग को अफवाह बताते हुए मामला शांत करने की कोशिश की है।

दूसरी ओर शिअद नेता स. सुखबीर सिंह बादल ने स. अमरेंद्र सिंह पर भाजपा से मिलीभगत करके पंजाब के हितों से समझौता करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि ‘‘वह सिर्फ बादलों को ही फंसाना चाहते हैं।’’ इस बीच अब प्रियंका गांधी ने स. अमरेंद्र सिंह को फोन करके उनसे उक्त मामलों पर चर्चा की है परंतु यह टकराव राज्य में कांग्रेस व इसकी सरकार को कहां ले जाएगा कहना कठिन है।

इस बीच पंजाब कांग्रेस मामलों के प्रभारी हरीश रावत की तबीयत खराब होने के कारण इस मामले में हाईकमान के हस्तक्षेप पर संशय पैदा हो गया है और स. नवजोत सिद्धू ने दिल्ली चलो का नारा देकर सोशल मीडिया पर लिख दिया है कि ‘‘अब विधायकों व पार्टी कार्यकत्र्ताओं को दिल्ली जाकर हाईकमान को सच लाजिमी बताना चाहिए।’’ 

ऐसा लगता है कि इस सारे घटनाक्रम के लिए कहीं न कहीं कांग्रेस हाईकमान भी जि मेदार है जिसने अब तक यह विवाद सुलझाने की कोशिश ही नहीं की और मामला बिगड़ते-बिगड़ते यहां तक पहुंच गया! अत: यदि पार्टी में कलह इसी तरह जारी रही तो चुनावों में पार्टी को इसका खमियाजा भुगतना पड़ सकता है।—विजय कुमार 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static