खूनी खेल तभी रुकेगा जब केन्द्र जम्मू-कश्मीर को लेकर अपना रवैया बदलेगा: महबूबा

श्रीनगर:जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने पुलवामा मुठभेड़ में शहीद हुए सैनिकों के परिजनों के प्रति सोमवार को संवेदनाएं जताते हुए कहा कि यह खूनी खेल तभी रुकेगा जब केन्द्र जम्मू-कश्मीर को लेकर अपना रवैया बदलेगा। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया है, ‘परिजनों के प्रति गहरी संवेदनाएं। खूनी खेल तभी रुकेगा जब भारत सरकार जम्मू-कश्मीर को लेकर अपना रवैया बदलेगी।’ उन्होंने पाकिस्तान को लेकर ‘अपना जुनून खत्म करने’ और अपने घर को संभालने की जरूरत पर बल दिया। उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान को लेकर जुनून छोड़ें और अपने घर को संभालें। मौजूदा रुख से हालात बिगड़ेंगे ही और देश का ध्रुवीकरण होगा।’

महबूबा मुफ्ती ने कहा कि पुलवामा हमले का इस्तेमाल कश्मीर के लोगों को सताने या परेशान करने के लिए बहाने के रूप में नहीं होने देना चाहिए। उन्होंने एक ट्वीट में लिखा कि हम दर्द और गुस्से को समझते हैं लेकिन हमें पुलवामा हमले को जम्मू कश्मीर के लोगों को सताने या परेशान करने के लिए शरारती तत्वों द्वारा इसे एक बहाने के रूप में इस्तेमाल करने की इजाजत नहीं देनी चाहिए। उन्होंने चिंता जताते हुए कहा कि कश्मीर के लोग किसी और की करनी पर ऐसी प्रतिक्रिया क्यों सहें? 

पूर्व सीएम ने कहा, 'हमें लोगों को हमारे आंसुओं का इस्तेमाल करने देने की बजाय एकजुट होने की जरूरत है।' पीडीपी प्रमुख की यह टिप्पणी जम्मू में हिंसक प्रदर्शन और राज्य के बाहर कुछ स्थानों पर कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में कश्मीरी छात्रों को निशाना बनाए जाने की रिपोर्टों के बाद आई है। पूर्व मुख्यमंत्री ने एक अन्य ट्वीट में कहा, 'दर्द और आक्रोश के इस वक्त में हमें बांटने की कोशिशें होंगी। मजहबों और पहचानों को एक दूसरे के खिलाफ खड़ा किया जाएगा। हिन्दू बनाम मुस्लिम और जम्मू बनाम कश्मीर।' 

Related Stories:

RELATED पति-पत्नी को यौन संबंधों के लिए मजबूर करने के प्रावधानों के खिलाफ याचिका पर केन्द्र को नोटिस