HDFC बैंकर हत्या मामलाः मुंबई पुलिस का दावा, हत्या की वजह लूट

नेशनल डेस्कःएचडीएफसी बैंक के वाइस प्रेजिडेंट सिद्धार्थ संघवी की हत्या में मुंबई पुलिस ने दावा किया है कि हत्या का मामला सुलझा लिया गया है। पहले संघवी के मर्डर की वजह ईर्ष्या बताने वाली पुलिस का कहना है कि हत्या की मुख्य वजह लूट है। गिरफ्तार किये गए आरोपी सरफराज शेख ने बार-बार अपने बयान बदले और पुलिस को उलझाकर रखा। पुलिस के अनुसार, संघवी ने जब कैब ड्राइवर सरफराज को पैसे देने से इनकार किया तो उसने धारदार हथियार से हमला कर दिया।

बुधवार से गायब चल रहे एचडीएफसी वाइस प्रजिडेंट संघवी का शव सोमवार को कल्याण के हाजी मलंग इलाके में मिला। पुलिस ने बताया कि शेख और संघवी के बीच पैसे को लेकर पार्किंग में विवाद हुआ तो संघवी ने अलार्म बजा दिया, जिससे घबराकर शेख ने उनपर हमला कर दिया। हत्या करने के बाद शेख ने संघवी के शव को कार में रखा और हाजी मलंग के पास फेंक दिया।

इससे पहले के दिए गए बयान में शेख ने पुलिस को बताया कि उसे तीन लोगों ने हत्या का कॉन्ट्रैक्ट दिया था। सुत्रों के मुताबिक, उसने ज्यादा कुछ तो नहीं बताया, लेकिन यह जरूर बताया है कि उनमें से दो लोग HDFC में पहले काम कर चुके हैं और वह सिद्धार्थ की तरक्की और जल्दी हुए प्रमोशन से चिढ़े हुए थे। इसलिए वे सिद्धार्थ को मारना चाहते थे।

जानकारी के अनुसार, शेख उस इलाके से काफी परिचित है। सिद्धार्थ संघवी बुधवार रात से ही गायब थे। पुलिस ने इस बात से इनकार किया कि किसी निजी दुश्मनी की वजह से संघवी की हत्या की गई है। एक पुलिस अधिकारी के मुताबिक, पूछताछ के दौरान शेख ने उन्हें कन्फ्यूज करने के लिए कई तरह की बातें बताईं।

पुलिस के मुताबिक, मलबार हिल में रहने वाले सिद्धार्थ लोगों ने आखिरी बार बुधवार शाम कमला मिल्स कंपाउंड स्थित दफ्तर से करीब 8.30 बजे घर के लिए निकलते हुए देखा था। लेकिन वह घर नहीं पहुंचे। जांच के दौरान सीसीटीवी फुटेज में निकलकर यह सामने आया है कि अंतिम समय संघवी की कार में तीन और लोग मौजूद थे। कार जब बरामद हुई तो उसमे खून के धब्बे मिले थे।

Related Stories:

RELATED 26/11 की 10वीं बरसी: कसाब के अंतिम समय में कबूला था- 'आप जीते, मैं हारा'