ऑनलाइन शॉपिंग साइट्स पर हुआ मालवेयर अटैक

- 7,000 से भी ज्यादा ई-कामर्स साइट्स हुईं प्रभावित

गैजेट डैस्क : अगर आपको ऑनलाइन शापिंग साइट्स पर खरीदारी करना काफी पसंद है और आप क्रैडिट व डैबिट कार्ड की डिटेल्स को ई-कामर्स साइट पर सेव रखते है तो आपके लिए बुरी खबर है। नई साइबर सिक्योरिटी रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक एक डाटा स्टीलिंग मालवेयर ने 7,000 से भी ज्यादा ई-कामर्स वैबसाइट्स को दुनिया भर में अपना शिकार बनाया है। इस मालवेयर का नाम MagentoCore बताया गया है। जी बिजनैस की रिपोर्ट के मुताबिक यह मालवेयर अटैक होने से वे ग्राहक भी खतरे में आ गए हैं जिन्होंने इनफैक्टिड ई-कामर्स वैबसाइट पर अपनी कार्ड की डिटेल को सेव नहीं किया है लेकिन खरीदारी जरूर की है।

इस तरह का डाटा किया गया चोरी

इस मालवेयर अटैक से यूजर्स के नाम, पासवर्ड्स, क्रैडिट कार्ड की जानकारी और पर्सनल डिटेल्स को चुराया जा रहा है। एक प्रसिद्ध डच सुरक्षा शोधकर्ता विलेम डे ग्रूट ने इस खतरनाक पेमैंट से जुड़ी जानकारी एकत्रित करने वाले मालवेयर का पता लगाया है जिसने अब तक हजारों यूजर्स को नुक्सान पहुंचा दिया है। 

हर दिन 50 से ज्यादा वैबसाइट्स को बना रहा अपना शिकार

MagentoCore नामक यह मालवेयर उन ई-कामर्स साइट्स को नुक्सान पहुंचा रहा है जो Magento  सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करती हैं। इस मालवेयर को 7,339  से भी ज्यादा ऑनलाइन स्टोर्स पर पिछले 6 महीनों से इंस्टाल किया जा चुका है वहीं यह हर दिन 50 नई वैबसाइट्स को अपना शिकार बना रहा है।

4.2 प्रतिशत वैबसाइट्स के शिकार होने की उम्मीद 

रिसर्चर्स ने 2,20,000 वैबसाइट्स का एनलाइस करते हुए पता लगाया है कि इनमें से 4.2 प्रतिशत शॉपिंग वैबसाइट्स से पहले ही डाटा लीक हो गया है। एक इंटरनैट सिक्योरिटी सॉल्यूशन फर्म Infosec Ventures के डायरैक्टर अंकुश जौहर ने कहा है कि ऑर्गेनाइजेशन्स को बिल्कुल प्रॉपर साइबर सिक्योरिटी इनफ्रास्ट्रक्चर को स्थापित करने की जरूरत है ताकि इस तरह के फ्रॉड से ग्राहकों की रक्षा की जा सके।

अब हैकर्स के निशाने पर ई-कामर्स वैबसाइट्स

हैकर्स के निशाने पर अब ई-कामर्स वैबसाइट्स आ गई हैं और वे इनके जरिए ग्राहकों के डाटा तक पहुंच बना रहे हैं। इससे एक सवाल सामने आया है कि क्या क्रैडिट या डैबिट कार्ड की जानकारी को ई-कामर्स वैबसाइट्स पर सेव करना सही है या नहीं?

ऐसे में ग्राहकों को उठाने चाहिएं ये महत्वपूर्ण कदम

- ई-कामर्स साइट्स पर अपने क्रैडिट या डैबिट कार्ड की जानकारी को सेव करने से बचें

- अपने क्रैडिट कार्ड बिल्स व हिस्ट्री की जांच करें और चैक करें कि किसी संदिग्ध लेन-देन का शिकार तो नहीं हुए हैं आप । 

- अगर आप ऐसी ट्रांजैक्शन का पता लगाते हैं जिसे आपने नहीं किया है तो तुरंत अपने बैंक से सम्पर्क करें और कार्ड को ब्लॉक करें।

-संदिग्ध लेन-देन सामने आने पर पुलिस को रिपोर्ट करें।

- शॉपिंग करने के लिए सिर्फ उन्ही वैबसाइट्स का उपयोग करें जिन पर आपको भरोसा हो। 

Related Stories:

RELATED नकली सामान बेचने वाली ऑनलाइन कंपनियों पर हाईकोर्ट सख्त, दिया ये आदेश