Kundli Tv-  जानें क्या है आंगरक चतुर्थी ?

ये नहीं देखा तो क्या देखा (Video)
मंगलवार दिनांक 11.12.18 मार्गशीर्ष शुक्ल चौथ पर विनायक चतुर्थी मनाई जाएगी। भविष्य पुराण, चतुर्वर्ग चिंतामणि व कृत्य-कल्पतरु शास्त्रों में इसे गणपति चतुर्थी कहा जात है। विनायक चतुर्थी का व्रत हर माह में वार के अनुसार होता है। मंगलवारीय चतुर्थी को अंगारकी चतुर्थी कहते हैं। अंगारकी चतुर्थी का संबंध गणेश के आंगरक रूप से है। वेदव्यास के अनुसार मंगला चौथ पर जप, दान, अनुष्ठान करने से दस लाख गुणा फल मिलता है। मत्स्य पुराण, नारद पुराण सहित गणेश पुराण के उपासना खण्ड के 60वें अध्याय में मंगला चौथ का माहात्म्य वर्णित है। भगवान गणेश ने मंगल देव के कठिन तप से खुश होकर उन्हें वरदान देकर मंगलवारीय चतुर्थी को अंगारकी चतुर्थी का नाम दिया था। इसी कारण मंगलवार का दिन गणपति को अत्यधिक प्रिय है। मंगला चौथ पर गणपति के विशेष पूजन, व्रत व उपाय से हर कार्य निर्विघ्न पूरा होता है। व्यक्ति को सारे सुख प्राप्त होते हैं, व कर्ज से मुक्ति मिलती है।


स्पेशल पूजन विधि: घर की पूर्व दिशा में लाल कपड़ा बिछाकर, तांबे के लोटे में जल दूध, अक्षत, सुपारी, सिक्के, इत्र डालकर तथा लोटे के मुख पर पीपल के पत्ते पर नारियल रखकर विनायक कलश स्थापित करें और साथ ही गणेश जी का चित्र व यंत्र रखकर षोडशोपचार पूजन करें। चमेली के तेल में सिंदूर मिलाकर दीपक करें, गुगल की धूप करें, सिंदूर से तिलक करें, लाल गूढ़ल के फूल चढ़ाएं, बेसन के 4 लड्डू का भोग लगाएं। लाल चंदन की माला से इस विशेष मंत्र का 1 माला जाप करें। शाम को चंद्रोदय के समय तांबे के लोटे में जल, इत्र, हल्दी, चंदन, रोली मिलाकर चंद्रमा को अर्ध्य दें और भोग प्रसाद के स्वरूप सभी में वितरित करें।

स्पेशल मंत्र: ॐ चंद्रचूडामण्ये नमः॥

गणेश पूजन मुहूर्त: दिन 11:54 से 12:35 तक। (अभिजीत मुहूर्त)

चंद्रोदय पूजन मुहूर्त:रात 17:44 से रात 18:44 तक। (प्रदोष काल) 

चंद्रोदय पूजन मुहूर्त: रात 20:22 से रात 20:58 तक। (भद्रा रहित मुहूर्त)

गणेश पूजन मुहूर्त:रात 20:22 से 21:22 तक। (भद्रा रहित मुहूर्त)

गुडलक के लिए:बिल्वपत्र पर लाल चंदन लगाकर गणपति पर चढ़ाएं। 

विवाद टालने के लिए:लाल धागे में बंधी 11 दूर्वा गणपति पर चढ़ाएं।

नुकसान से बचने के लिए:मौली में पिरोए 12 पीपल के पत्ते गणपति पर चढ़ाएं। 

प्रोफेशनल सक्सेस के लिए: सिंदूर चढ़ी सुपारी गणेश जी पर चढ़ाकर गल्ले में रखें। 

एजुकेशनल में सक्सेस के लिए:नोटबुक पर रेड पेन से स्वास्तिक बनाएं।

फैमिली हैप्पीनेस के लिए: गणेश मंदिर में गेहूं व गुड़ दान करें।

लव लाइफ में सक्सेस के लिए:गणेश जी पर चढ़े 5 लड्डू किसी गरीब बच्चे को दान करें।

आचार्य कमल नंदलाल
ईमेल: kamal.nandlal@gmail.com
देवी पार्वती को क्यों कहा जाता है अन्नपूर्णा ?(Video)

Related Stories:

RELATED Kundli Tv- आज का पंचांग: 9 जनवरी, 2018