शिक्षा विभाग के मिशन 100 प्रतिशत पास का आगाज

लुधियाना (विक्की):सरकारी स्कूलों में पढऩे वाले विद्यार्थियों के परिणाम को बेहतर बनाने के लिए जहां शिक्षा विभाग ने अध्यापकों की हौसला-अफजाई की, वहीं अब विभाग के शीर्ष अधिकारियों की टीमें भी विभिन्न हाई व सैकेंडरी स्कूलों में विजिट करके अध्यापकों को और अधिक मेहनत व विद्याॢथयों पर निजी तौर पर ध्यान देने के लिए उनका मनोबल बढ़ाने की दिशा में कार्य करेंगी। विभाग द्वारा शुरू किए मिशन 100 प्रतिशत पास को सफल बनाने के लिए अधिकारियों की टीमों को विभिन्न ब्लाकों के स्कूल बांटे गए हैं। 
माना जा रहा है कि विभाग का यह प्रोसैस गुरुवार से विभिन्न स्कूलों में शुरू हो जाएगा, जिसके चलते अधिकारियों की टीमें स्कूलों में विजिट करेंगी।


बोर्ड कक्षाओं के स्टूडैंट्स पर रहेगा अधिक फोकस
गौरतलब है कि सैक्रेटरी एजुकेशन कृष्ण कुमार की पहलकदमी से शिक्षा विभाग द्वारा 10वीं व 12वीं कक्षा की वाॢषक बोर्ड परीक्षाओं में शत-प्रतिशत पास परिणाम लाने के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी गई है। इसी शृंखला के पहले चरण में विभागीय अधिकारियों ने मंगलवार को विभिन्न स्कूलों के प्रमुखों के साथ मीटिंग करने के अलावा विषय अध्यापकों को भी परिणाम में सुधार के लिए मोटीवेट किया था। मीटिंग के 1 दिन बाद अब डायरैक्टर एस.सी.ई.आर.टी. ने एक विशेष पत्र जारी करते हुए शिक्षा विभाग के सभी अधिकारियों को मिशन शत-प्रतिशत पास को सफल बनाने के लिए विशेष दिशा-निर्देश जारी किए हैं।


अध्यापकों पर नहीं बनाया जाएगा कोई दबाव
डायरैक्टर एस.सी.ई.आर.टी. द्वारा जारी पत्र के साथ एक सूची भी जारी की गई है, जिसमें अंकित अधिकारियों को विभिन्न ब्लॉक के हाई व सी.सै. स्कूल दिए गए हैं, जिनमें वह विजिट करते हुए अध्यापकों को मेहनत, विद्याॢथयों पर निजी ध्यान और उनका मनोबल बढ़ाने के लिए काम करेंगे। स्कूल विजिट के दौरान अधिकारी इस बात का भी ध्यान रखेंगे कि विजिट के समय अध्यापकों पर किसी भी किस्म का अतिरिक्त दबाव नहीं बनाया जाएगा, बल्कि पढ़ाई के प्रति प्रोत्साहित किया जाएगा। अधिकारियों को दिए ब्लॉक के साथ वह लगातार तालमेल रखेंगे और जरूरत पडऩे पर स्कूल में विजिट करेंगे।


छुट्टी के बाद होगी मीटिंग
पत्र के मुताबिक स्कूलों की विजिट पर जाने वाले अधिकारी स्कूलों में छुट्टी के बाद स्कूल प्रमुख के अलावा अध्यापकों व डी.एम. व बी.एम. के साथ बाकायदा मीटिंग करेंगे, जिसमें विद्यार्थियों को पेश आने वाली दिक्कतों का समाधान करने के प्रयत्न किए जाएंगे।

Related Stories:

RELATED शिक्षा विभाग ने विद्यार्थियों को खेलों से दूर करने की बनाई योजना!