क्या जानते हैं आप नर्मदा नदी के इस चमत्कार के बारे में ?

ये नहीं देखा तो क्या देखा (VIDEO)
शिव जी की पूजा में शिवलिंग का सर्वाधिक महत्व है। हिंदू धर्म में कई प्रकार के शिवलिंगों की पूजा की जाती है, जिनमें स्वयंभू शिवलिंग, नर्मदेश्वर, जनेऊधारी, सोने और चांदी और पारद शिवलिंग शामिल हैं। इनमें से नर्मदेश्वर शिवलिंग की पूजा सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण और फलदायी मानी जाती है। मान्यता के अनुसार भारत में एक ऐसी नदी है यहां से निकला हर एक पत्थर शंकर का माना जाता है।


आइए जानते हैं इस पवित्र नदी के बारे में- 
ग्रंथों में नर्मदा नदी को पवित्र नदी माना गया है कहा जाता है गंगा में नहाने से जो फल मिलता वही फल नर्मदा नदी में स्नान करने से प्राप्त होता है। पुराणो के अनुसार नर्मदा नदी से निकला हर एक पत्थर शिव जी का प्रतीक माना जाता है। यहां से निकले पत्थरों को शिवलिंग के रूप में स्थापित किया जाता है। नर्मदा से निकले शिवलिंगों को नर्मदेश्वर शिवलिंग कहा जाता है।

कहा जाता है कि नर्मदा नदी को शिव के वरदान के कारण इससे प्राप्त होने वाले शिवलिंग को पवित्र माना जाता है। यहां से निर्मित शिवलिंग को सीधा ही स्थापित किया जा सकता है, इसके प्राण प्रतिष्ठा की आवश्यकता नहीं होती है। कहा जाता है कि, जहां नर्मदेश्वर का वास होता है, वहां काल और यम का भय नहीं होता है। व्यक्ति समस्त सुखों का भोग करता हुआ शिवलोक तक जाता है। देशभर में महादेव के मंदिरों में यहीं से ले जाकर शिवलिंग स्थापित किए जाते है। 

नर्मदा नदी का उल्लेख स्कंद पूराण में किया गया है। हैरान करने वाली बात यह है कि यहां से ॐ लिखे हुए शिवलिंग भी निकलते हैं। जिसे देखने दूर-दूर से लोग यहां आते हैं। यहां की खास बात ये भी है कि नर्मदा नदी देश की एक ही ऐसी नदी है जो पूर्व से पश्चिम की ओर उल्टी दिशा में बहती है।
इस भंयकर देव से भी लोग करते हैं अटूट प्यार (VIDEO)

Related Stories:

RELATED Video: कंप्यूटर बाबा की सरकार को चेतावनी, 'मां नर्मदा के किनारे शराब नहीं बिकने दूंगा'