पंजाब में डेंगू के 3200 मामले आए सामने, 700 मरीज अकेले लुधियाना में

लुधियाना: डेंगू मच्छर ने इस सीजन में सेहत मंत्री के शहर पटियाला को बुरी तरह निशाने पर लिया है। हालांकि सेहत विभाग डेंगू मरीजों की संख्या नहीं बता रहा। मगर स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि 30 प्रतिशत से अधिक मामले अकेले पटियाला के ही हैं। पटियाला में सेहत मंत्री के अलावा मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह व स्थानीय निकास मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू का भी निवास स्थान है। पंजाब में अब तक डेंगू के 3200 के करीब मरीज सामने आ चुके हैं, जिसमें 700 मरीज अकेले लुधियाना के अस्पतालों से सामने आए हैं। इनमें 365 मरीजों की पुष्टि सेहत विभाग कर चुका है, जिनमें 189 लुधियाना, 115 दूसरे शहरों व 21 अन्य राज्यों के रहने वाले हैं। 

मरीजों के मामलों को रखा जाएगा डेंगू डैथ रिव्यू कमेटी में
शहर के अस्पतालों में 3 मरीजों की मौत की पुष्टि सेहत विभाग कर रहा है। 3 मरीज फतेहगढ़ साहिब, 3 फगवाड़ा, 1 मानसा व 1 लुधियाना का रहने वाला है। इन मरीजों को फिलहाल संदिग्ध श्रेणी में रखा गया है। जिला मलेरिया अफसर डा. रमेश भगत के अनुसार इन मरीजों के मामलों को डेंगू डैथ रिव्यू कमेटी में रखा जाएगा।

निजी अस्पतालों में मरीजों को नैट की सुविधा नहीं
डेंगू बारे सरकार की गाइडलाइन के अनुसार डेंगू के संदिग्ध व पॉजीटिव मरीजों को नैट यानी मच्छरदानी में रखने के निर्देश हैं। मगर अधिकतर निजी अस्पताल इन गाइडलाइन का पालन नहीं कर रहे हैं।

जीका ने दहलाया, गर्भवती महिलाओं की होगी जांच 
जयपुर में जीका वायरस के 50 मरीज सामने आने के बाद पंजाब के सेहत विभाग में काफी हलचल है, क्योंकि अभी तक जीका वायरस से निपटने के लिए सरकार द्वारा गाइडलाइन नहीं भेजी गई है। इस वायरस से गर्भवती महिलाओं के गर्भ में पल रहे बच्चे में विकृति आ जाती है। सेहत विभाग के सूत्रों के अनुसार मरीजों में जीका वायरस की पहचान के लिए हर शिशु रोग विशेषज्ञ व महिला रोग विशेषज्ञ को इस मुहिम में शामिल किया जाएगा। अल्ट्रासाऊंड में गर्भ में पल रहे ब"ो का सिर छोटा लगने पर सेहत विभाग को सूचित करना अनिवार्य होगा।
 

Related Stories:

RELATED नहीं रूक रहीं चेन स्नैचिंग की वारदातें, पुलिस ने सुलझाए आधे से कम मामले