Train-18 हुई ग्लोबल, सिंगापुर और इंडोनेशिया जैसे देशों ने दिखाई दिलचस्पी

नेशनल डेस्कः Train 18 जल्द ही भारत की पटरियों पर दौड़ती नजर आएगी। इसी बीच भारतीय रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को कहा कि पेरू, इंडोनेशिया, सिंगापुर, मलेशिया और पश्चिमी एशिया के कुछ देशों ने भारत की अत्याधुनिक ट्रेन 18 का आयात करने में अपनी रूचि दिखाई है। हालांकि अभी इस महत्वाकांक्षी परियोजना की कमर्शियल शुरूआत नहीं हुई है। ट्रायल के दौरान ट्रेन 18 की अधिकतम गति 180 किमी/घंटा कर रही है। इसका सफर वाराणसी से दिल्ली के बीच शुरू होगा।


रेलवे बोर्ड के सदस्य (रॉलिंग स्टॉक) राजेश अग्रवाल ने कहा, “ कई देशों ने इस ट्रेन सेट में रुचि दिखाई है और हमें गर्व है कि स्वदेशी रूप से तैयार एक उत्पाद में इतनी रुचि दिखाई जा रही है। दुनिया भर में रोलिंग स्टॉक बाजार लगभग 200 अरब डॉलर का है और हम इसमें एक महत्वपूर्ण हिस्सेदारी चाहते हैं। अब, उद्देश्य इस ट्रेन को सफलतापूर्वक चलाना है।

सूत्रों ने बताया कि अभी ट्रेन 18 जैसे मानक वाली ट्रेनों की कीमत दुनिया भर में करीब 250 करोड़ रुपए है, जबकि इंटीग्रल कोच फैक्ट्री चेन्नई द्वारा निर्मित इस भारतीय संस्करण की लागत करीब 100 करोड़ रुपए है।

सूत्रों ने बताया कि भारत सेमी-हाई स्पीड क्लब में शामिल होने वाला नवीनतम सदस्य है और वह फरवरी में अंतर्राष्ट्रीय हाई स्पीड रेल एसोसिएशन सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है। रेलवे को उम्मीद है कि इस आयोजन में वह ट्रेन 18 के जरिए अपनी विनिर्माण क्षमताओं को पेश कर सकता है।  

Related Stories:

RELATED 5 देशों की यात्रा पर निकले मोटरसाइकिल सवार पहुंचे म्यांमार