कांग्रेस ने कहा, सीबीआई प्रमुख के चयन में पारदर्शिता

नई दिल्लीः केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के नये प्रमुख की नियुक्ति के लिए कांग्रेस ने कहा है कि गुरुवार को होने वाली बैठक से पहले कांग्रेस ने आज स्पष्ट किया कि प्रमुख जांच एजेंसी के शीर्ष पद नियुक्ति पारदर्शी तरीके से होनी चाहिए।


कांग्रेस प्रवक्ता आनंद शर्मा ने मंगलवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में एक सवाल के जवाब में कहा कि 24 जनवरी को सीबीआई प्रमुख पर नियुक्ति के लिए चयन समिति की बैठक होनी है और पार्टी की स्पष्ट राय है कि इस महत्वपूर्ण और संवेदनशील पद पर पारदर्शी तरीके से नियुक्ति होनी चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार ने सीबीआई जैसे अत्यंत महत्वपूर्ण संगठन को बर्बाद कर दिया है।

शर्मा ने कहा, पहले ऐसा कभी नहीं हुआ कि हमारी प्रीमियर इन्वेस्टीगेटिंग एजेंसी की ये दुर्दशा हुई है। अब एक मौका है उसको मरम्मत करने का, जो नुकसान हुआ है उसे ठीक करने का। इसलिए जो नए सीबीआई निदेशक के चयन की प्रक्रिया है, वह पारदर्शी होनी चाहिए और इसके लिए मैरिट, योग्यता और सीनियोरिटी जो भी है, उसको ध्यान में रखते हुए सीबीआई का नया निदेशक चुना जाना चाहिए।

गौरतलब है कि तीन सदस्यीय पैनल की दस जनवरी को हुई बैठक में सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को 2-1 के बहुमत से हटाया गया था। पैनल की बैठक में लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खडग़े ने इस फैसले का विरोध किया था जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा मुख्य न्यायाधीश के प्रतिनिधि ए के सिकरी ने श्री वर्मा को हटाने के पक्ष में अपनी राय दी थी।

Related Stories:

RELATED आगामी लोकसभा चुनाव पूरी तरह पारदर्शिता के साथ कराए जाएंगे