राजस्थान में कांग्रेस को बहुमत, वसुंधरा राजे ने स्वीकार किया जनादेश

जयपुर: राजस्थान में चुनाव नतीजे वैसे ही आए जिस तरह के अनुमान लगाए जा रहे थे। पूर्व सीएम अशोक गहलोत और प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट की अगुवाई में कांग्रेस ने पांच साल बाद सत्ता में वापसी की है। वसुंधरा राजे सरकार में कद्दावर रहे कई मंत्री विधानसभा चुनाव हार गए हैंं। इनमें परिवहन मंत्री युनुस खान, खान मंत्री सुरेंद्र पाल सिंह टीटी, यूडीएच मंत्री श्रीचंद कृपलानी शामिल हैं। जीतने वाले मंत्रियों में गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया व शिक्षा मंत्री किरण महेश्वरी का नाम प्रमुख है। वसुंधरा राजे ने जनादेश स्वीकार करते हुए कहा कि हम सदन में विपक्ष में बैठकर जनता की आवाज बनेंगे।

वसुंधरा राजे के करीबी माने जाने वाले युनुस खान टोंक विधानसभा सीट से 54,179 मतों से हार गए। इस सीट पर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष व पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ रहे सचिन पायलट जीते हैं। वहीं जल संसाधन मंत्री डॉ रामप्रताप हनुमानगढ़ सीट पर 15522 मतों से तो पशुपालन मंत्री रहे ओटाराम देवासी सिरोही सीट पर 10253 मतों से पराजित हुए।

इसी तरह राजे सरकार के कृषि मंत्री प्रभु लाल सैनी अंता सीट पर 34059 मतों से हारे। उन्हें कांग्रेस के प्रमोद भाया ने हराया। खान मंत्री सुरेंद्र पाल सिंह टीटी करणपुर सीट पर हारे और वह मुकाबले में तीसरे स्थान पर रहे। खाद्य व आपूर्ति मंत्री बाबू लाल वर्मा बारां अटरू सीट पर 12248 मतों से हार गए। पर्यटन मंत्री कृष्णेंद्र कौर दीपा नदबई सीट पर बसपा के जोगिंदर सिंह से 4094 मतों से हारीं जबकि यूडीएच मंत्री श्रीचंद कृपलानी निंबाहेडा सीट पर 11908 मतों से हारे हैं। 

राजस्थान में कांग्रेस विधायक दल की बैठक 
राजस्थान विधानसभा चुनाव परिणाम में बहुमत की तरफ बढ रही कांग्रेस ने कहा है कि राज्य में विधायक दल का नेता कौन बनेगा इस बारे में मंगलवार को नव निर्वाचित विधायकों की बैठक में विचार विमर्श किया जाएगा। कांग्रेस के राजस्थान के पर्यवेक्षक तथा लोकसभा सदस्य के सी वेणुगोपाल ने सोमवार को कहा ‘‘राजस्थान में नव निर्वाचित विधायकों की बैठक मंगलवार को होगी और इसमें विधायक दल के नेता के बारे में चर्चा की जाएगी। इस संबंध में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से भी विचार विमर्श किया जाएगा। उसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष के समक्ष सारी स्थिति को रखा जाएगा।’’  
कांग्रेस कार्यकर्ता जीत पर मना रहे जश्न 
राजस्थान की पन्द्रहवीं विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के सरकार बनाने की संभावना बनते ही कार्यकर्ताओं एवं समर्थकों ने खुशी की लहर दौड़ गई और आतिशबाजी एवं मिठाई बांटकर जश्न मनाने लगे हैं।  मतगणना में कांग्रेस के पक्ष में रुझान आना शुरु होते ही कांग्रेस कार्यकर्ता एवं समर्थक प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में जमा होने लगे और पटाखे फोड़कर आतिशबाजी कर तथा मिठाई बांटकर खुशी मनाई। इसी तरह प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट के निवास जालूपुरा में भी कार्यकर्ता और समर्थकों की भीड़ जमा हो गई और नारेबाजी कर पटाखे फोड़ते रहे। 

बता दें कि 2013 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को कुल 163 सीटें मिलीं थी। इसके अलावा कांग्रेस को 21, बसपा को 3, एनपीपी को 4 एवं निर्दलीय तथा अन्य को 9 सीटें मिलीं थी। हालांकि बीच में हुए उपचुनाव के बाद मौजूदा समय भाजपा के 160, कांग्रेस के 25, बसपा के 2 और एनपीपी के 3 विधायक हैं।

Related Stories:

RELATED राजस्थान से सामान छोड़ने आए व्यक्ति की मौत