छत्तीसगढ़ में 15 साल बाद कांग्रेस सरकार, भाजपा की करारी हार

नेशनल डेस्क: छत्तीसगढ़ में 15 साल बाद कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 15 साल बाद सत्ता में वापसी की है। अभी तक आए परिणामों के हिसाब से कांग्रेस 41 सीटों पर जीत दर्ज कर चुकी है तथा 25 पर आगे चल रही है। वहीं बीजेपी 8 सीटों पर जीत दर्ज कर चुकी है तथा 7 पर आगे चल रही है। इसके साथ ही चौथी बार सत्ता हासिल करने की भाजपा की उम्मीदों पर पानी फिर गया। अपनी जीत को लेकर आश्वस्त भाजपा रमन सिंह के लिए यह नतीजे अप्रत्याशित हैं। 

 

गठबंधन ने भाजपा को पहुंचाया नुकसान
राज्य में मायावती की बहुजन समाजवादी पार्टी और अजित जोगी की पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़  और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के गठबंधन ने चुनावन नतीजों को प्रभावित किया है। इस गठबंधन के चुनावी मैदान में आने के बाद भाजपा के रणनीतिकारों भी कुछ ऐसे ही नतीजों की आस लगाए बैठे थे। 


गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ में पिछले विधानसभा चुनाव की तरह ही करीब 76 फीसदी मत पड़े हैं। लेकिन, पिछले तीन चुनाव से उलट इस बार कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रह चुके अजीत जोगी की नई पार्टी, बसपा और भाकपा के गठबंधन ने मुकाबले को दिलचस्प बना दिया।  


किसान और ग्रामीण मतदाता रमन सिंह से थे नाराज
वैसे राज्य में भाजपा को गुजरात की तर्ज पर ग्रामीण मतदाता और किसानों की नाराजगी का सामना करना पड़ा है। इसके अलावा नाममात्र की शहरी सीटें और कथित तौर पर पार्टी के साहू वोट बैंक में कांग्रेस की सेंधमारी ने भी परेशानी खड़ी की है। चूंकि पार्टी यहां पिछले 15 वर्षों से सत्ता में है, इसलिए राज्य में स्वाभाविक सत्ता विरोधी रुझान भी सामने आए हैं।

Related Stories:

RELATED कांग्रेस सरकार छलावा कर रही है, जो ज्यादा देर चलने वाला नहीं है- शिवराज सिंह