CBI विवाद: आलोक वर्मा का जवाब लीक होने पर भड़के CJI, बोले-आप सुनवाई के लायक नहीं

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा का सीलबंद लिफाफे में दायर किया गया जवाब मीडिया में लीक होने पर अप्रसन्नता जताते हुए आज मामले की सुनवाई 29 नवंबर तक के लिए स्थगित कर दी। वर्मा ने सोमवार को अपना जवाब एक सीलबंद लिफाफे में कोर्ट के सेक्रेटरी जनरल को सौंपा था। चीफ जस्टिस रंगन गोगोई, जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस के. एम. जोसेफ की पीठ ने वर्मा की ओर से पेश हुए वरिष्ठ वकील फली एस. नरीमन को एक समाचार पोर्टल की खबर की प्रति सौंपी, जिसमें सीबीआई निदेशक का जवाब छपा हुआ है।


मीडिया रिपोर्ट पढ़ने के बाद नरीमन ने पीठ से कहा कि मीडिया में वर्मा का जवाब लीक होने को लेकर वे खुद स्तब्ध हैं। वरिष्ठ वकील नरीमन ने कहा कि समाचार पोर्टल और उसके संबंधित पत्रकार को समन किया जाना चाहिए क्योंकि प्रेस को स्वतंत्र और जिम्मेदार होना चाहिए। 

रिपोर्ट लीक होने पर गुस्साए CJI
चीफ जस्टिस रंजन गोगोई जैसे ही कोर्ट में आए और सुनवाई शुरू हुई तो वर्मा का जवाब लीक होने पर चर्चा हुई तो वे काफी नाराज हुए और गुस्से में उन्होंने सुनवाई टाल दी। सीजेआई ने वर्मा के वकील फली नरीमन को दस्तावेज देते हुए कहा कि इन्हें ध्यान से देखें। चीफ जस्टिस ने कहा कि यह दस्तावेज आपको इसलिए नहीं दिए जा रहे कि आप आलोक वर्मा के वकील हैं बल्कि इसलिए दिए गए हैं कि आप देश के वरिष्ठ वकील हैं। उन्होंने कहा कि जब वर्मा का जवाब सीलबंद लिफाफे में था तो यह लीक कैसे हुआ। चीफ जस्टिस ने कोर्ट में मौजूद पक्षों को यहां तक कह दिया कि आज सुनवाई के लिए आपमें से कोई भी डिजर्व नहीं करता है।
उल्लेखनीय है कि न्यायालय वर्मा के अधिकार छीनने और अवकाश पर भेजे जाने संबंधी सरकारी आदेश को चुनौती देने वाली उनकी याचिका पर सुनवाई कर रहा था।

Related Stories:

RELATED सीबीआई विवादः आलोक वर्मा की याचिका पर SC में सुनवाई कल