बैंकों ने लगाई कोर्ट से गुहार, माल्या की संपत्ति जल्द-से-जल्द हो कुर्क

नई दिल्लीः बैंकों का लोन लेकर फरार चल रहे शराब कारोबारी विजय माल्या को PMLA कोर्ट ने भगोड़ा घोषित कर दिया है हालही में माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित भी किया जा चुका है जिसके बाद उसकी संपत्ति जल्द से जल्द कुर्क हो सकती है वहीं एसबीआई के नेतृत्व में 12 बैंकों के समूह ने मुंबई की एक अदालत में आवेदन देकर मांग की है कि विजय माल्या की वे ऐसेट्स रिलीज की जाएं, जिन्हें जांच एजेंसी एन्फोर्समेंट डायरेक्टरेट (ईडी) ने जब्त कर लिया है। बैंकों ने कहा है कि ऐसा होने पर वे इन ऐसेट्स को 'तुरंत' बेचकर इनकी अधिक से अधिक वैल्यू हासिल कर पाएंगे।

फंसे हुए एनपीए के कारण स्थिति बनी गंभीर
बैंकों ने कहा है कि अटैच की गईं संपत्तियों पर 'बाजार में उतार-चढ़ाव का असर पड़ेगा और उन ऐसेट्स को बेचने में देर होने से उनकी वैल्यू कम हो सकती है।' उन्होंने कहा है कि 'बेस्ट वैल्यू हासिल करने के लिए इन ऐसेट्स को तत्काल बेचे जाने की जरूरत है।' बैंकों ने अदालत से अनुरोध किया है कि उनकी यह मांग 'इकॉनमी और बैंकिंग सिस्टम के हित में मान ली जाए, जिनके सामने फंसे हुए एनपीए के कारण गंभीर स्थिति बन गई है।'

गौरतलब है कि ईडी के अनुरोध पर कोर्ट ने 11 नवंबर 2016 को माल्या की ऐसेट्स अटैच कर दी थीं। बैंकों ने किंगफिशर एयरलाइन लिमिटेड, यूनाइटेड ब्रुअरीज होल्डिंग्स लिमिटेड, विजय माल्या और किंगफिशर फिनवेस्ट इंडिया लिमिटेड से जुड़ी सभी प्रॉपर्टीज पर अपना 'वैध' दावा होने की बात की है। बैंकों का दावा है कि माल्या पर उनके 6,230 करोड़ रुपये और इस पर 11.50 प्रतिशत की दर से ब्याज बकाया हैं, जैसा कि डीआरटी ने फरवरी 2017 में कहा था। कोर्ट ने अगर ये प्रॉपर्टीज डिटैच कर बैंकों को उनकी कुर्की करने और अपना बकाया रिकवर करने की इजाजत नहीं दी तो बैंकों के अधिकारों को 'अपूरणीय नुकसान' होगा। बैंकों ने दावा किया है कि माल्या ने 21 दिसंबर 2010 को उन्हें जो पर्सनल गारंटी दी थी, उसी आधार पर माल्या की ऐसेट्स पर उनका अधिकार बनता है। उन्होंने दावा किया है कि माल्या की ऐसेट्स पर उन्होंने कदम बढ़ा दिए हैं, लेकिन कोर्ट के नवंबर 2016 के अटैचमेंट ऑर्डर के कारण वे आगे नहीं बढ़ पा रहे हैं।

Related Stories:

RELATED माल्या की संपत्ति पर बैंकों का दावा बहाल करने में कोई आपत्ति नहीं: ईडी