हरियाणा मुक्त विद्यालय मार्च-2019 की सैकेण्डरी परीक्षा का परिणाम घोषित

भिवानी (अशोक भारद्वाज):हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड द्वारा प्रदेशभर में संचालित हरियाणा मुक्त विद्यालय परीक्षा मार्च-2019 की सैकेण्डरी (फ्रैश) एवं सब्जैक्ट टू बी क्लीयर (एस.टी.सी.)/क्रेडिट ट्रांसफर पॉलिसी (सी.टी.पी.) परीक्षा का परिणाम आज 21 मई, 2019 को घोषित किया गया है। परीक्षार्थी अपने परीक्षा परिणाम बोर्ड की वेबसाईट www.bseh.org.in व www.indiaresults.com व मोबाईल एप के माध्यम से देख सकते हैं।

इस परीक्षा परिणाम की घोषणा बोर्ड अध्यक्ष डॉ. जगबीर सिंह एवं सचिव राजीव प्रसाद, एचसीएस ने आज यहाँ बोर्ड मुख्यालय पर की। उन्होंने बताया कि सैकेण्डरी ओपन स्कूल (फ्रैश) मार्च-2019 की परीक्षा का परिणाम 11.84 फीसदी तथा सैकेण्डरी ओपन स्कूल (एस.टी.सी./सी.टी.पी.) मार्च-2019 की परीक्षा का परिणाम 26.72 फीसदी रहा है। उन्होंने बताया कि गत वर्ष सैकेण्डरी ओपन स्कूल (फ्रैश) मार्च-2018 की परीक्षा का परिणाम 11.23 फीसदी तथा सैकेण्डरी ओपन स्कूल (एस.टी.सी./सी.टी.पी.) मार्च-2018 की परीक्षा का परिणाम 21.79 फीसदी रहा था।

बोर्ड अध्यक्ष ने बताया कि सैकेण्डरी ओपन स्कूल (फ्रैश) की परीक्षा में 18,659 परीक्षार्थी प्रविष्ठ हुए थे, जिनमें से 2210 परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए तथा 16,449 परीक्षार्थियों की एस.टी.सी. आई है। इस परीक्षा में 13,240 लडक़े बैठे थे, जिनमें से 1613 पास हुए, इनकी पास प्रतिशतता 12.18 रही है, जबकि 5,419 प्रविष्ठ लड़कियों में से 597 पास हुई, इनकी पास प्रतिशतता 11.02 रही है। उन्होंने बताया कि इस परीक्षा में लडक़ों ने लड़कियों की अपेक्षा पास प्रतिशतता में 1.16 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की है तथा ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थियों की पास प्रतिशतता 12.88 रही है, जबकि शहरी क्षेत्र के विद्यार्थियों की पास प्रतिशतता 8.87 रही है।

बोर्ड सचिव ने बताया कि सैकेण्डरी ओपन स्कूल (सी.टी.पी./एस.टी.सी.) की परीक्षा में 72,748 परीक्षार्थी प्रविष्ठ हुए थे, जिनमें से 19,439 परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए तथा 53,309 परीक्षार्थियों की एस.टी.सी. आई है। इस परीक्षा में 43,612 लडक़े बैठे थे, जिनमें से 11,318 पास हुए, इनकी पास प्रतिशतता 25.95 रही है, जबकि 29,136 प्रविष्ठ लड़कियों में से 8,121 पास हुई, इनकी पास प्रतिशतता 27.87 रही है। उन्होंने बताया कि लड़कियों ने लडक़ों की अपेक्षा पास प्रतिशतता में 1.92 प्रतिशत की बढ़ोतरी अर्जित की है तथा ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थियों की पास प्रतिशतता 26.56 रही है, जबकि शहरी क्षेत्र के विद्यार्थियों की पास प्रतिशतता 27.22 रही है।

राजीव प्रसाद ने बताया कि इन परीक्षा परिणामों के आधार पर जो परीक्षार्थी अपनी उत्तरपुस्तिकाओं की पुन: जाँच अथवा पुनर्मूल्यांकन करवाना चाहते हैं तो वे ऑनलाईन आवेदन कर सकते हैं। पुन: जाँच/पुनर्मूल्यांकन निर्धारित शुल्क सहित परिणाम घोषित होने की तिथि से 20 दिन तक ऑनलाईन आवेदन कर सकते हैं।

Related Stories:

RELATED भूलकर भी न करें ये काम, मिल सकता है बुरा परिणाम