चुनावी चक्रव्यूह के तीसरे द्वार पर SP और BJP में सीधी टक्कर

लखनऊः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लोकप्रियता के दम पर सियासी दंगल जीतने का प्रयास कर रही बीजेपी को तीसरे चरण में ‘यादव परिवार' की मजबूत चुनौती का सामना करना पड़ेगा, जबकि इस चुनाव के जरिए अपनी खोई जमीन वापस पाने में जुटी कांग्रेस दोनों ही दलों के राजनीतिक समीकरणों में उलटफेर कर सकती है।

तीसरे चरण में पश्चिमी उत्तर प्रदेश की 10 लोकसभा सीटों मुरादाबाद, रामपुर, संभल, फिरोजाबाद, मैनपुरी, एटा, बदायूं, आंवला, बरेली और पीलीभीत पर मतदान 23 अप्रैल को होगा।। समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव, उनके भतीजे धर्मेन्द्र यादव और अक्षय यादव के अलावा पार्टी महासचिव मोहम्मद आजम खान की प्रतिष्ठा का इम्तिहान इसी चरण में होगा। वहीं बीजेपी के कद्दावर नेता और राज्यपाल कल्याण सिंह के प्रभाव को भी परखा जाएगा।

वर्ष 2014 में बीजेपी ने 10 में से 7 सीटों पर जीत हासिल की थी जबकि मोदी लहर के बावजूद यादव परिवार के तीनों सदस्यों ने जीत का परचम लहराया था। पिछले लोकसभा चुनाव में सपा और बसपा के अलग-अलग मैदान में होने के चलते दलित और अल्पसंख्यक वोटों के बंटने के कारण बीजेपी की राह बेहद आसान हो गई थी, जबकि इस बार दोनों ही दल साथ मिलकर मैदान में है। इस चरण में 10 में 9 सीटों में सपा के उम्मीदवार किस्मत आजमा रहे हैं जबकि एक पर बसपा प्रत्याशी मैदान में है।

मुरादाबाद में बीजेपी के मौजूदा सांसद कुंवर सर्वेश सिंह का मुख्य मुकाबला सपा के डॉ. एसटी हसन से है। हालांकि, मुस्लिम बाहुल्य इस सीट पर कांग्रेस के इमरान प्रतापगढ़ी गठबंधन का खेल बिगाड़ सकते हैं। जातीय समीकरणों की बात करें तो मुरादाबाद में 6 लाख से ज्यादा मुस्लिम मतदाता है, जबकि दलित मतदाताओं की तादाद करीब ढाई लाख है। इसके अलावा राजपूत, सैनी, जाट और ब्राह्मण मतदाता निर्णायक भूमिका अदा कर सकते हैं।
 

Related Stories:

RELATED 18 मई से शुरु होगी दो दिवसीय आइडियोलॉजी चैलेंज प्रतियोगिता