3 पिस्तौल, 11 जिंदा कारतूस और ड्रग्स मनी सहित 2 युवक गिरफ्तार

जालंधर(वरुण):सेल्फ डिफैंस के लिए पिस्तौल रख कर ड्रग्स का कारोबार करने वाले तस्कर को सीआईए स्टाफ-1 की पुलिस ने काबू किया है। पुलिस ने तस्कर के साथी को भी 9 एमएम पिस्टल के साथ काबू किया है जो रेडीमेड कपड़ों की दुकान चलाता है। तस्कर से नशीला पाऊडर व एक लाख पांच हजार रुपए की ड्रग मनी भी बरामद हुई है। दोनों कारिमांड लेकर पूछताछ की जा रही है। 

सीपी गुरप्रीत सिंह भुल्लर व डीसीपी इंवैस्टीगेशन गुरमीत सिंह ने बताया कि सीआईए स्टाफ-1 के इंचार्ज हरमिंदर सिंह को सूचना मिली थी कि काफी समय से ड्रग्स बेचने का काम करने वाला सन्नी वहमी पुत्र सुनील दत्त निवासी किशनपुरा (हाल निवासी न्यू गीता कालोनी) हौंडा सिटी कार में ड्रग्स बेचने के लिए सोफी पिंड स्थित हाथी गेट की तरफ जा रहा है। सीआईए स्टाफ की टीम ने तुरंत वहां पर नाकाबंदी करके सिटी हौंडा कार को रोक कर सन्नी को काबू कर लिया। तलाशी लेने पर उससे 270 ग्राम नशीला पाऊडर, 32 बोर की पिस्टल, 315 बोर की पिस्तौल, आठ गोलियां व एक लाख पांच हजार रुपए बरामद हुई। बरामद हुआ कैश ड्रग मनी निकली।

पुलिस ने सन्नी से पूछताछ की तो पता लगा कि वह अमृतसर से ड्रग्स लाकर जालंधर में नशा बेचता है। बरामद हुए पिस्टल, पिस्तौल व गोलियां उसने यूपी के इटावा इलाके से खुद जाकर खरीदे थे। हथियार पास रखने का कारण पूछा तो सन्नी का कहना था कि सेल्फ डिफैंस के लिए उसने अपने पास वैपन रखे हुए थे। सन्नी तीन साल तक बीएमसी चौंक नजदीक स्थित एक निजी स्कूल में चपड़ासी का काम कर चुका है लेकिन पिता की मौत के बाद वह नशा बेचने लगा। सन्नी से पूछताछ में पता लगा कि उसने एक वैपन राहुल पुत्र प्रदीप चौधरी निवासी अशोक विहार वेरका मिल्क प्लांट को भी दिलाई थी। सन्नी से इनपुट लेने के बाद सीआईए स्टाफ ने राहुल को अशोक विहार से ही काबू कर लिया और उससे 9 एमएम का पिस्टल व तीन गोलियां बरामद की। पुलिस ने दोनों खिलाफ केस दर्ज करके पूछताछ शुरू कर दी है।

तीन साल पहले अमृतसर में भी पकड़ा गया था सन्नी
27 साल का सन्नी मार्च 2016 को अमृतसर में भी हैरोइन साथ पकड़ा गया था। तब उसके पास से 32 बोर की पिस्टल व दो गोलियां मिली थी और तब वह विस्टा कार मेें था। 2014 में उसे थाना आठ की पुलिस ने नशीले पाऊडर के साथ अरैस्ट किया जबकि 2016 में ही थाना दो की पुलिस ने सन्नी को हैरोइन के साथ पकड़ा था। पुलिस का कहना है कि सन्नी हर किसी पर शक करता था जिसके चलते उसे वहमी कहा जाने लगा। सन्नी से जो गाड़ी बरामद हुई है वह उसने किसी से पुरानी खरीदी थी। पुलिस यह पता लगा रही है कि उसने गाड़ी भी कहीं ड्रग मनी से न खरीदी हो। 

राहुल ने 25 हजार में खरीदा था पिस्टल, मां है तस्कर
राहुल की उर्म मात्र 25 साल है। राहुल खुद वेरका मिल्क प्लांट के पास ही रेडीमेड कपड़ों की दुकान चलाता है। राहुल ने बताया कि सन्नी ने उसे यूपी के एक तस्कर के बारे बताया था जिससे वह 25 हजार रुपए पिस्टल व तीन गोलियां खरीद कर लाया था। राहुल की मां पर हैरोइन बेचने के तीन केस दर्ज हैं। अब वह सजा काट कर बाहर आई हुई है। सीपी गुरप्रीत सिंह भुल्लर का कहना है कि राहुल द्वारा नशा बेचने के कोई तथ्य सामने नहीं आए हैं। उसकी मां नशा जरूर बेचती थी। हो सकता है कि उसने शौंकिया हथियार अपने पास रखा हो लेकिन पुलिस पुरी गहराई से हथियार रखने का कारण ढूंढ निकालेगी। 

Related Stories:

RELATED देसी पिस्तौल और जिंदा कारतूस सहित 2 गिरफ्तार