अब कुर्ग में बच्चों को हाकी का ककहरा सिखाएगी जर्मनी की आंद्रिया

Monday, August 21, 2017 1:36 PM
अब कुर्ग में बच्चों को हाकी का ककहरा सिखाएगी जर्मनी की आंद्रिया

नई दिल्ली: लोगों ने धर्म परिवर्तन कराने के आरोप लगाए, स्थानीय साझेदारों ने धोखा दिया और नौकरशाही की तमाम दिक्कतें भी झेली लेकिन जर्मनी से आई आंद्रिया थुमशर्न टूटी नहीं और राजस्थान से दर बदर होने के बाद अब कर्नाटक के कुर्ग में बच्चों को हाकी का ककहरा सिखाएगी।  

6 साल पहले जर्मन पर्यटकों के साथ भारत आई जर्मनी की पूर्व प्रीमियर लीग हाकी खिलाड़ी आंद्रिया ने 2010 में राजस्थान के दौसा के गढ हिम्मत सिंह गांव में हाकी विलेज इंडिया शुरू किया । मकसद था बच्चों को हाकी सिखाना। चार साल बाद स्थानीय साझेदारों द्वारा वित्तीय गड़बडयिां किये जाने के बाद हाकी विलेज जटवाड़ा में खोला गया । इन गांवों में करीब 100 बच्चों को दो स्कूलों में दाखिले के साथ हाकी का प्रशिक्षण दिया गया और जर्मनी की आंद्रिया बन गई बच्चों की "बुआ सा"। 

इस साल हालांकि स्थानीय साझेदारों ने फिर धोखा देकर उससे काफी पैसा ऐंठा और उसे राजस्थान में अपना सपना छोड़कर जाने के लिये मजबूर कर दिया। आंद्रिया अब कुर्ग में है और अगले महीने वहां नया हाकी विलेज खोलने की तैयारी में जुटी है। उसने भाषा से कहा कि हम कुर्ग में सितंबर की शुरूआत में जर्मनी से आये दो वालिंटियरों की मदद से नया हाकी विलेज खोलेंगे। राजस्थान में कुछ लोगों के स्वार्थ के कारण 1 सुंदर सपना टूट गया लेकिन उम्मीद है कि यहां हम हाकी को कुछ दे सकेंगे।
 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!