अक्षय तृतीया पर घर में खास स्थानों पर रखें ये सामान, होगा लक्ष्मी का आगमन

Tuesday, April 25, 2017 12:34 PM
अक्षय तृतीया पर घर में खास स्थानों पर रखें ये सामान, होगा लक्ष्मी का आगमन

अक्षय तृतीया देवी लक्ष्मी के प्रिय दिनों में से एक है। ज्योतिष विद्वानों व तंत्र शास्त्रियों का मानना है, यदि इस पर्व पर कुछ सामान घर के खास स्थानों पर रखा जाए तो देवी लक्ष्मी का आगमन होता है और अनचाही परेशानियों का भी हल हो जाता है। अक्षय तृतीया पर पूजन के उपरांत घर के मंदिर में चांदी से निर्मित गणेश-लक्ष्मी की प्रतिमा रखने से सुख-समृद्धि आती है और कभी धन का अभाव नहीं रहता। चांदी से बने लक्ष्मी गणेश की प्रतिमा शुभता की सूचक है। आपका जो भी सोने-चांदी या रत्नों से बना सामान है, उसे इसी प्रतिमा के पास रखें। पास बुक, चैक बुक और बैंक खाते से संबंधित कागज लक्ष्मी गणेश की प्रतिमा के समीप अथवा श्रीयंत्र के पास रखने चाहिए। उचित स्थान पर न रखने से नकारात्मकता हावी होती है। जिसका असर बैंक बैंलेस पर पड़ता है।


धन रखने के स्थान अथवा त‌िजोरी में काली हल्दी रखें, संपत्ति को नजर नहीं लगती और धन में बढ़ौतरी होती है।

 

धन से संबंधित किसी भी तरह के कागजात जैसे शेयर, इंश्योरेंश आदि को लक्ष्मी स्वरूप अथवा श्री यंत्र के पास रखें।   

 

यंत्र शास्त्र में श्रीयंत्र का खास महत्व बताया गया है। माना जाता है की जिस घर में श्रीयंत्र मौजूद होता है वहां श्री जी स्वयं निवास करती हैं। आर्थिक स्थिति ठीक करने के लिए अक्षय तृतीया पर श्रीयंत्र घर लाएं।


 
लाल कपड़े में नारियल बांध कर धन स्थान में रखने से महालक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। 


 
लक्ष्मी देवी की कृपा पाने के लिए मंदिर में कमल गट्टे की माला रखें।


 
धन के स्वामी कुबेर की प्रतिमा मंदिर की उत्तर दिशा में रखें। महिलाएं यदि अशुद्ध अवस्था में हों तो कुबेर प्रतिमा का स्पर्श न करें।


 
महालक्ष्मी समुद्र मंथन से प्रकट हुई थी अौर कौड़ियां भी समुद्र में प्रकृतिक रूप से होती हैं इसलिए महालक्ष्मी को कौड़ियां बहुत प्रिय हैं। आखा तीज पर इन्हें तिजोरी में रखें। 


 
पारद से बनी देव प्रतिमाअों को बहुत विशेष माना जाता है। आखा तीज को महालक्ष्मी की पादर से बनी प्रतिमा मंदिर में रखकर पूजा करें।


 
तंत्र शास्त्र के अनुसार मोती शंख बहुत चमत्कारी होता है। अक्षय तृतीया वाले दिन इसे मंदिर में रखने से धन संपति में बढ़ौतरी होती है अौर पारिवारिक सदस्यों में प्रेम बना रहता है।


 
एकाक्षी का अर्थ है एक आंख वाला । एकाक्षी नारियल का प्रयोग ज्यादातर तंत्र शास्त्र में किया जाता है। इसे साक्षात महालक्ष्मी का स्वरुप माना जाता है। इसकी विधिवत पूजा करके घर में रखने से कभी धन की कमी नहीं होती।


 
दक्षिणावर्ती शंख घर के मंदिर में रखने से महालक्ष्मी इसकी और आकर्षित होती हैं।


 
लक्ष्मी माता की चांदी से बनी चरणपादुकाएं घर के मंदिर में रखने से धन-समद्धि आती है।

 

 

 




विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !