पांडव नगर में पति की हत्या करके शव के 10 टुकड़े करने के आरोप में महिला, उसका बेटा गिरफ्तार

punjabkesari.in Monday, Nov 28, 2022 - 11:50 PM (IST)

नयी दिल्ली, 28 नवंबर (भाषा) श्रद्धा वालकर हत्याकांड की तरह ही पूर्वी दिल्ली के पांडव नगर में एक महिला द्वारा बेटे के साथ मिलकर अपने पति की कथित तौर पर हत्या करके उसके शव के 10 टुकड़े करने का मामला सामने आया है। यह जानकारी पुलिस ने सोमवार को दी।

पुलिस ने बताया कि इस मामले में आरोपी महिला तथा उसके बेटे को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया गया।

पुलिस ने बताया कि अंजन दास (45) की कल्याणपुरी निवासी उसकी पत्नी पूनम (48) और सौतेले बेटे दीपक (25) ने 30 मई को हत्या करके शव के 10 टुकड़े किए और उन्हें एक फ्रिज में रखा।

पुलिस के अनुसार, इस जघन्य अपराध का कारण यह तथ्य था कि दास के अपनी सौतेली बेटी और दीपक की पत्नी के प्रति कथित तौर पर गलत इरादे थे। पुलिस के अनुसार साथ ही वह पूनम की कमाई बिहार में अपनी दूसरी पत्नी और आठ बच्चों को भी भेज रहा था। पूनम इलाके में घरेलू सहायिका के तौर पर काम करती थी।

पुलिस के अनुसार अप्रैल में, पूनम ने अपने बेटे दीपक की मदद से दास की हत्या करने की साजिश रची। पुलिस ने कहा कि 30 मई को दोनों आरोपियों ने उसे नींद की गोलियों के साथ शराब पिलायी।

पुलिस ने कहा कि मां-बेटे ने दास की गर्दन, छाती और पेट पर चाकू से वार किये और हत्या के बाद शव को कमरे में रखा गया था। पुलिस ने बताया कि अगले दिन सुबह तक शरीर से खून निकल गया और फिर वे उसके 10 टुकड़े करने लगे और उन्हें फ्रिज में रख दिया। पुलिस ने कहा कि आरोपियों ने अगले तीन से चार दिनों में उसके शरीर के अंगों को फेंक दिया।

पुलिस को अब तक शव के छह हिस्से मिले हैं। पुलिस ने बताया कि मृतक का धड़ और हाथ का कोहनी से आगे का हिस्सा अभी तक नहीं मिला है।

पुलिस ने कहा कि पांच जून को, पुलिस को पूर्वी दिल्ली के कल्याणपुरी के रामलीला मैदान में एक बैग में मानव शरीर का निचला हिस्सा मिला और कुछ दूरी पर, एक और हिस्सा भी बरामद किया गया, जो एक सफेद प्लास्टिक बैग में था।

पुलिस के अनुसार, अगले कुछ दिनों में, उसके पैर, जांघ और खोपड़ी भी बरामद की गई जिसके बाद पांडव नगर पुलिस थाने में भारतीय दंड संहिता की धारा 302 और 201 के तहत मामला दर्ज किया गया।

पुलिस के अनुसार, जांच के दौरान पता चला कि 31 मई व एक जून की दरम्यानी रात को एक महिला व एक पुरुष ने प्लास्टिक की थैली को रामलीला मैदान में सुनसान जगह पर फेंका था। पुलिस के अनुसार सीसीटीवी फुटेज खंगालने पर पता चला कि एक जून को दिन में भी वही महिला और पुरुष घटनास्थल के पास नजर आए।

सूत्रों ने कहा कि पुलिस ने उस इलाके में मोबाइल फोन नंबरों का पता लगाने के लिए तकनीकी निगरानी की मदद ली, जो उस समय बंद हो गए थे जब शरीर के अंग पाए गए थे।

पुलिस के अनुसार जैसे ही पुलिस ने दास का सिर बरामद किया, उसने घर-घर जाकर तलाशी शुरू की और पड़ोसियों द्वारा पहचान करने पर, पुलिस ने पाया कि पीड़ित पिछले पांच से छह महीने से लापता था और उसके परिवार के सदस्यों द्वारा गुमशुदगी की कोई रिपोर्ट दर्ज नहीं करायी गई थी।

पुलिस ने कहा कि उसने पूनम और दीपक से पूछताछ की और दोनों ने परस्पर विरोधी बयान दिये।

विशेष पुलिस आयुक्त (अपराध) रवींद्र सिंह यादव ने कहा कि बाद में, दोनों आरोपियों ने खुलासा किया कि उन्होंने दास को मारने की साजिश रची और उसकी हत्या करने के बाद उसके शरीर को टुकड़ों में काट दिया और हिस्सों को प्लास्टिक की थैलियों में डालकर रामलीला मैदान और गंदा नाला, न्यू अशोक विहार में फेंक दिया।

पुलिस ने कहा कि दास का मोबाइल फोन और शरीर के अंगों को फेंके जाने के दौरान आरोपी सीसीटीवी फुटेज में जो कपड़े पहने दिखे थे, वे भी बरामद कर लिये गए।

पुलिस ने बताया कि झारखंड के देवघर जिले की रहने वाली पूनम की शादी 13 साल की उम्र में बिहार के आरा निवासी सुखदेव तिवारी से हुई थी। पुलिस ने बताया कि उसने 14 साल की उम्र में एक लड़की को जन्म दिया।

पुलिस ने बताया कि पूनम के पति सुखदेव तिवारी काम के सिलसिले में दिल्ली गए थे, लेकिन वापस नहीं आए। पुलिस ने बताया कि 1997 में, वह अपनी बेटी के साथ, उसकी तलाश करने के लिए दिल्ली आई, लेकिन उसका पता नहीं लगा सकी।

पुलिस ने बताया कि इसके बाद पूनम त्रिलोकपुरी निवासी कल्लू से मिली और उसके साथ रहने लगी। पुलिस ने कहा कि उसे कल्लू से बेटा एवं सह-आरोपी दीपक और दो बेटियां हैं।

पुलिस ने बताया कि उनकी एक बेटी की चार साल की उम्र में छत से गिरकर मौत हो गई थी। पुलिस ने बताया कि कल्लू शराब का आदी था और गुजारे के लिए कोई काम नहीं करता था।

पुलिस ने बताया कि 2011 में, पूनम की मुलाकात दास से हुई, जो एक लिफ्ट मैकेनिक के रूप में काम करता था और उसकी इमारत की सबसे ऊपरी मंजिल पर किराए पर रह रहा था। पुलिस ने बताया कि 2016 में कल्लू की लीवर खराब होने से मौत हो गई और वह दास के साथ रहने लगी।

पुलिस ने बताया कि बाद में, उसे पता चला कि दास पहले से शादीशुदा था और उसकी पहली पत्नी से आठ बच्चे (सात बेटियां और एक बेटा) हैं। पुलिस ने कहा कि दास ने काम करना बंद कर दिया और उसकी सारी कमाई का इस्तेमाल अपने खर्च के लिए करता था।

पुलिस अधिकारी ने कहा कि दास उसके जेवर और नकदी चोरी करने लगा और उसे अपनी पहली पत्नी के पास बिहार भेज देता था, जिसके कारण उनका कई बार झगड़ा हो चुका था। अधिकारी ने बताया कि पूनम के बेटे दीपक की 2018 में शादी हुई थी और उसका तीन साल का एक बेटा है। अधिकारी ने बताया कि दीपक पड़ोस में रह रहा था।

पुलिस ने बताया कि इस साल मार्च या अप्रैल में, पूनम को पता चला कि दास के उसकी तलाकशुदा बेटी के साथ-साथ बहू के प्रति भी कथित तौर पर गलत इरादे थे। पुलिस ने कहा कि उसने कथित तौर पर उनके साथ छेड़छाड़ करने की कोशिश की, जो दीपक को बर्दाश्त नहीं हुआ।

पुलिस के मुताबिक, दास के परिजनों का डीएनए नमूना लेने के लिए एक टीम बिहार भेजी जाएगी ताकि उसका मिलान शरीर के अंगों से किया जा सके। पुलिस ने कहा कि दास के शरीर के अंगों को रखने के लिए इस्तेमाल किया गया फ्रिज जब्त कर लिया गया है। पुलिस ने कहा कि दीपक पार्टियों और समारोहों में वेटर के रूप में काम करता था।

यह मामला राष्ट्रीय राजधानी में 26 वर्षीय वालकर की हत्या से मिलता-जुलता है।

उल्लेखनीय है कि पुलिस ने दिल्ली के महरौली में अपनी लिव-इन पार्टनर श्रद्धा वालकर की गला घोंटकर हत्या करने तथा उसके शव के 35 टुकड़े करके उन्हें करीब तीन हफ्तों तक 300 लीटर के फ्रिज में रखने के आरोप में 28 वर्षीय आफताब पूनावाला को 12 नवंबर को गिरफ्तार किया था।


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News