आईएएस कोचिंग: निजी कोचिंग संस्थान बीकॉन से करार पर हंसराज कॉलेज के बाहर आईसा का विरोध-प्रदर्शन

punjabkesari.in Tuesday, May 17, 2022 - 04:13 PM (IST)

नयी दिल्ली, 17 मई (भाषा) वामपंथ से जुड़े ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (आईसा) ने भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) की कोचिंग के लिए एक निजी कोचिंग संस्थान के साथ करार करने को लेकर यहां दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के हंसराज कॉलेज के सामने मंगलवार को प्रदर्शन किया। यह करार हंसराज कॉलेज ने किया है।
आईसा सदस्यों ने ‘शिक्षा के बढ़ते निजीकरण’ का आरोप लगाते हुए कॉलेज के विरोध में नारेबाजी की। उनके हाथों में तख्तियां थी जिनपर ‘‘ हंसराज के प्राचार्य शर्म करें’, ‘डीयू में निजी कोचिंग नहीं चलेगी’ , ‘बीकॉन आईएएस वापस जाओ’ जैसे नारे लिखे थे।

दिल्ली विश्वविद्यालय की अकादमिक परिषद के सदस्य आलोक पांडे ने कहा कि हंसराज कॉलेज ने निजी संस्थान बीकॉन इंस्टीट्यूट के साथ मिलकर पिछले साल से ही दिल्ली विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को आईएएस की परीक्षा पास करने के लिए कोचिंग दे रहा है।

दिल्ली आईसा के उपाध्यक्ष अभिज्ञान ने कहा, ‘‘ हमने हंसराज कॉलेज के उपप्राचार्य से भेंट की और उनसे यह आश्वासन मांगा कि कोचिंग कार्यक्रम निलंबित किया जाएगा। लेकिन हमें कोई आश्वासन नहीं मिला।’’
उन्होंने कहा कि यदि कोचिंग की कक्षाएं नहीं रोकी गयीं, तो आईसा की ओर से फिर प्रदर्शन किया जाएगा।
हंसराज कॉलेज की वेबसाइट पर जारी अधिसूचना के अनुसार आईएएस की परीक्षा की कोचिंग कक्षाओं के लिए शुल्क 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों के प्राप्तांक के आधार पर भिन्न-भिन्न हैं। तीन वर्षीय कोचिंग कार्यक्रम के लिए न्यूनतम शुल्क 75000 रुपये और अधिकतम 1,50,000 रुपये है।
अधिसूचना के अनुसार हंसराज कॉलेज में आईएएस की परीक्षा की तैयारी के लिए आयोजित कक्षाओं में प्रवेश दिल्ली विश्वविद्यालीय के सभी विद्यार्थियों के लिए खुला है। इस विश्वविद्यालय के श्रद्धानंद कॉलेज ने भी बीकॉन इंस्टीट्यूट के साथ मिलकर कोचिंग कार्यक्रम के बारे में अधिसूचना जारी की है।

दिल्ली विश्वविद्यालय के डीन (महाविद्यालय) बलराम पाणि ने कहा कि इस बात की जांच करायी जाएगी, क्योंकि किसी कॉलेज को ऐसा करने की अनुमति नहीं है। विश्वविद्यालय के कुलपति योगेश सिंह ने कहा कि उन्हें पता नहीं है कि कॉलेज इस तरह की कोचिंग उपलब्ध करा रहे हैं।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News