रामलीला विवाद : एम्स प्रशासन ने छात्रों को आगाह किया

10/19/2021 9:20:24 AM

नयी दिल्ली, 18 अक्टूबर (भाषा) अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) परिसर में रामलीला मंचन की सोशल मीडिया पर निंदा होने पर छात्र संघ द्वारा माफी मांगने के बीच देश के प्रतिष्ठित मेडिकल संस्थान ने सोमवार को अपने सभी छात्र और कर्मचारी संघों को इस तरह की गतिविधियों से परहेज करने की चेतावनी दी। इसके साथ ही संस्थान ने कहा कि ऐसा नहीं करने पर उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

एम्स रजिस्ट्रार ने परामर्श जारी करते हुए कहा कि एम्स दिल्ली के छात्रावास परिसर में एक "आपत्तिजनक" नाटक के मंचन और सोशल मीडिया पर उसे अपलोड करने के संबंध में कई शिकायतें मिली हैं।

परामर्श में कहा गया है, ‘इसे गंभीरता से लिया गया है। यह परामर्श एम्स नयी दिल्ली के सभी छात्रों और कर्मचारियों के संगठनों व संघों को इस तरह के कृत्यों और आचरण से बचने के लिए जारी किया गया है और इसे भविष्य में दोहराया नहीं जाना चाहिए, अन्यथा आवश्यक अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। ’’
इससे पहले लोगों की नाराजगी को देखते हुए एम्स छात्र संघ ने रविवार को माफी मांगी थी। छात्र संघ ने ट्वीट कर कहा था, ‘‘एम्स के कुछ छात्रों द्वारा की गई रामलीला के मंचन की एक वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। छात्रों की ओर से, हम इस मंचन के लिए क्षमा चाहते हैं, मंचन का उद्देश्य किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं था। हम यह सुनिश्चित करेंगे कि भविष्य में ऐसी कोई गतिविधि न हो।’’
एक अधिकारी ने कहा कि इस मामले को संज्ञान में लेते हुए एम्स प्रशासन ने छात्रों के साथ चर्चा की। उन्होंने कहा, ‘‘इस मुद्दे की संवेदनशीलता को समझते हुए छात्रों ने एक ट्वीट जारी कर माफी मांगी है। उन्होंने आश्वासन दिया है कि इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति नहीं होगी।’’
अधिकारी ने कहा कि मंचन किसी आधिकारिक गतिविधि या कार्यक्रम का हिस्सा नहीं था और छात्रों ने इसे आयोजित किया था।


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News