अकाली दल के कृषि कानून विरोधी मार्च के चलते दिल्ली के कई हिस्सों में लगा जाम

09/18/2021 9:09:32 AM

नयी दिल्ली, 17 सितंबर (भाषा) केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के कार्यकर्ताओं द्वारा आयोजित विरोध मार्च के चलते शुक्रवार को आईटीओ सहित राष्ट्रीय राजधानी के कुछ हिस्सों में भारी जाम लग गया।

दिल्ली यातायात पुलिस ने यात्रियों को कुछ सड़कों को बंद करने के बारे में सतर्क किया और असुविधा से बचने के लिए अन्य मार्गों के उपयोग का सुझाव दिया।

उन्होंने कहा कि यातायात जाम के संबंध में ज्यादातर कॉल नयी दिल्ली, धौला कुआं, आईटीओ, विकास मार्ग, दिल्ली गेट, करोल बाग के इलाकों से आईं।

आईटीओ पर वाहनों की लंबी कतारें देखी गईं जबकि राम मनोहर लोहिया अस्पताल के चौराहे पर भी जाम लगा रहा।

30 वर्षीय अधिवक्ता रोहित तोमर ने कहा कि उन्हें 12 किलोमीटर की दूरी तय करने में दो घंटे से अधिक का समय लगा।

तोमर ने कहा, ''''मैं अपने घर से सुबह करीब 8:45 बजे पटियाला हाउस अदालत के लिए निकला, लेकिन जाम में फंस गया। लक्ष्मी नगर से आईटीओ तक विकास मार्ग का पूरा हिस्सा जाम था। इस रास्ते पर वाहन रेंग रहे थे। गीता कलोनी का क्षेत्र भी जाम था। मैं किसी तरह सुबह करीब 11 बजे पटियाला हाउस अदालत पहुंचा।''''
यातायात जाम के बारे में शिकायत करने के लिए कई यात्रियों ने ट्विटर का सहारा लिया।

एक यात्री ने कहा कि लक्ष्मी नगर से आईटीओ तक वाहनों का भारी दबाव था और उन्हें चार किलोमीटर की दूरी तय करने में एक घंटे का समय लग गया।

इससे पहले, दिल्ली यातायात पुलिस ने शुक्रवार को यात्रियों को बंद मार्गों के बारे में जानकारी दी और परेशानी से बचने के लिए मार्ग परिवर्तन का सुझाव दिया।

दिल्ली यातायात पुलिस ने ट्विटर के जरिए लोगों को सूचित किया कि झड़ौदा कलां सीमा पर मार्ग बंद है और यात्रियों से कहा कि वे किसानों के आंदोलन के मद्देनजर इन मार्गों पर जाने से बचें।

दिल्ली यातायात पुलिस ने ट्वीट किया, ‘‘गुरुद्वारा रकाब गंज रोड, आरएमएल अस्पताल, जीपीओ, अशोक रोड, बाबा खड़ग सिंह मार्ग पर किसान आंदोलन के कारण भीड़भाड़ होगी, अत: इन मार्गों का इस्तेमाल करने से कृपया बचें।’’
पुलिस के मुताबिक, सरदार पटेल मार्ग से धौला कुआं मार्ग भी बंद है। उसने मार्ग परिवर्तन संबंधी अन्य जानकारी भी दी।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Recommended News