कैदी अंकित गुर्जर की मौत: अदालत ने गवाहों की सुरक्षा पर जेल प्रशासन से मांगी रिपोर्ट

09/14/2021 10:34:56 AM

नयी दिल्ली, 13 सितंबर (भाषा) दिल्ली उच्च न्यायालय ने तिहाड़ जेल में कैदी अंकित गुर्जर की कथित हत्या के मामले में गवाहों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उठाए गए कदमों पर सोमवार को जेल प्रशासन से स्थिति रिपोर्ट मांगी और निर्देश दिया कि उन्हें सीसीटीवी निगरानी के अंतर्गत आने वाली कोठरी में रखा जाए।
न्यायमूर्ति मुक्ता गुप्ता ने दो गवाहों की मेडिकल रिपोर्ट भी मांगी, जिन्हें कथित तौर पर हमले की इसी घटना में गंभीर रूप से घायल होने के बावजूद उचित इलाज नहीं मिल रहा है। न्यायमूर्ति गुप्ता ने पिछले हफ्ते दिल्ली पुलिस से सीबीआई को जांच स्थानांतरित करते हुए कहा था कि मृतक ने हिरासत में हिंसा में अपनी जान गंवा दी।
सीबीआई के वकील ने अदालत को बताया कि उसने जांच में प्राथमिकी दर्ज कर ली है।
गौरतलब है कि 29 वर्षीय गुर्जर चार अगस्त को तिहाड़ जेल में अपनी कोठरी में मृत पाया गया था।
अदालत ने कहा, “महानिदेशक (कारागार) याचिकाकर्ता 1 से 3 की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए किए गए उपायों को इंगित करते हुए एक स्थिति रिपोर्ट दाखिल करेंगे और आत्मसमर्पण करने पर भी याचिकाकर्ता 4 और 5 की सुरक्षा को बरकरार रखने पर भी रिपोर्ट देंगे।’’ न्यायाधीश ने आदेश दिया, ‘‘डीजी यह भी सुनिश्चित करेंगे कि हिरासत में रखे गए याचिकाकर्ता एक से तीन और 24 सितंबर को आत्मसमर्पण करने वाले याचिकाकर्ता चार और पांच को उस क्षेत्र के अंदर रखा जाए जहां सीसीटीवी पूरी तरह से काम कर रहे हों ताकि कोठरी में प्रवेश और निकास की उचित निगरानी की जा सके।" अदालत पांच गवाहों की एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी जिसमें उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के साथ-साथ अधिकारियों को "उन्हें अपने और मृत कैदी के लिए न्याय मांगने से रोकने के लिए धमकी देने, जबरदस्ती करने, चोट पहुंचाने" से रोकने के लिए निर्देश देने की मांग की गई थी।


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Recommended News