मध्य प्रदेश में मकान ढहने से छह लोगों की मौत, राजस्थान के कुछ इलाकों में बाढ़ जैसी स्थिति

2021-08-01T23:06:19.573

नयी दिल्ली, एक अगस्त (भाषा) मध्य प्रदेश में रविवार को बारिश के चलते दो मकान ढहने से चार बच्चों सहित छह लोगों की मलवे में दबने से मौत हो गयी, जबकि चार अन्य घायल हो गये। वहीं, राजस्थान के कुछ इलाकों में भारी बारिश होने के बाद निचले इलाकों में जलभराव से बाढ़ जैसी स्थिति बन गई।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने राजस्थान और मध्य प्रदेश के लिए ''रेड अलर्ट'' जारी किया है, जिसमें सोमवार को बहुत भारी से बेहद भारी बारिश का अनुमान जताया गया है।

राष्ट्रीय राजधानी में लगातार हो रही बारिश के कारण दिल्ली के कई हिस्सों में जलभराव और यातायात जाम हो गया। सफदरजंग वेधशाला में 28.2 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी जबकि रिज स्टेशन में शनिवार सुबह आठ बजे से रविवार सुबह साढ़े आठ बजे तक 126.8 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी। दिल्ली में अधिकतम तापमान 32.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग ने सोमवार को भारी बारिश के साथ बादल छाए रहने का अनुमान जताया है।

पश्चिम बंगाल में लगातार तेज बारिश होने के कारण दामोदर घाटी निगम (डीवीसी) बांध से अतिरिक्त पानी छोड़े जाने के बाद प्रदेश के मेदिनीपुर एवं हावड़ा जिलों में सड़कों के डूबने और गांवों में बाढ़ आने से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। अधिकारियों ने बताया कि पश्चिम मेदिनीपुर में कम से कम 212 राहत शिविर स्थापित किये गये हैं, जिसमें करीब 12 हजार लोगों ने शरण ली है, क्योंकि बाढ़ का पानी उनके घरों में घुस गया है। हावड़ा जिले के उदयनारायणपुर एवं अमता में चिकित्सा केंद्र समेत एक बड़ा हिस्सा पानी में डूबा हुआ है और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल एवं राज्य आपदा मोचन बल युद्ध स्तर पर राहत एवं बचाव कार्य चला रहा है। उदयनारायणपुर एवं तारकेश्वर में कुछ सड़कें पानी में डूब गयी हैं। इसके कारण हावड़ा एवं हुगली जिलों के बीच संपर्क टूट गया है।

मध्य प्रदेश के रीवा एवं सिंगरौली जिलों में बारिश के चलते दो मकान ढहने से चार बच्चों सहित छह लोगों की मलवे में दबने से मौत हो गयी, जबकि चार अन्य घायल हो गये। इनमें से चार लोगों की मौत रीवा जिले में जबकि अन्य दो लोगों की मौत सिंगरौली जिले में हुई।

मध्य प्रदेश के ग्वालियर, शिवपुरी, गुना, अशोक नगर, दतिया, श्योपुर, मुरैना, भिण्ड, नीमच एवं मंदसौर जिलों में आगामी 24 घंटों में कहीं-कहीं पर भारी से अत्यधिक भारी वर्षा और गरज के साथ बिजली चमकने एवं गिरने की आशंका जताते हुए ‘रेड अलर्ट’ जारी किया गया है।

हिमाचल प्रदेश के विभिन्न इलाकों में हल्की से मध्यम बारिश हुई, जबकि मौसम विभाग ने पांच अगस्त तक के लिए ‘येलो अलर्ट’ जारी किया है। नादौन में 35 मिमी, डलहौजी में 34 मिमी, चंबा में 19 मिमी, कसौली में 17 मिमी और पोंटा साहिब में 14 मिमी बारिश हुई।

उत्तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा के कुछ हिस्सों में भी हल्की से मध्यम बारिश हुई। उत्तर प्रदेश में सोनभद्र, प्रयागराज, चित्रकूट, मुरादाबाद, महोबा और प्रतापगढ़ में बारिश दर्ज की गई। राजस्थान में विभिन्न इलाकों में भारी बारिश होने के कारण निचले इलाकों में जलभराव से बाढ़ जैसी स्थिति बन गई। मौसम विभाग के अनुसार, पिछले 24 घंटों के दौरान नागौर के मकराना में सबसे अधिक 240 मिलीमीटर बारिश जबकि भीलवाड़ा के हुरडा में 215 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। हरियाणा के हिसार, करनाल और रोहतक तथा पंजाब के पटियाला में क्रमश: 22 मिमी, 32 मिमी, 0.4 मिमी और सात मिमी बारिश हुई।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Recommended News