आकांक्षी जिला कार्यक्रम का मकसद समावेशी और समग्र विकास सुनिश्चित करना है: प्रधानमंत्री मोदी

2021-06-12T19:50:28.57

नयी दिल्ली, 12 जून (भाषा) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को कहा कि भारत के ‘आकांक्षी जिला कार्यक्रम’ (एडीपी) का मकसद देश के विभिन्न क्षेत्रों का समावेशी और समग्र विकास सुनिश्चित करना है। मोदी ने साथ ही इस बात पर प्रसन्नता जताई कि संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम ने एडीपी की मुख्य विशेषताओं को रेखांकित किया है।

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा कि ‘आकांक्षी जिला कार्यक्रम’ (एडीपी) ने आकांक्षी जिलों में तेजी से विकास के लिए प्रेरक का काम किया है।
यूएनडीपी ने कहा, ‘‘स्वास्थ्य देखभाल एवं पोषण, शिक्षा जैसे कुछ क्षेत्रों में और काफी हद तक कृषि और जल संसाधन जैसे क्षेत्रों में कुछ अहम परिवर्तन आए हैं।’’ उसने कहा कि यह उत्साहजनक है क्योंकि विकास के मूल्यांकन के लिए ये क्षेत्र महत्वपूर्ण हैं।

इस पर मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘भारत के ‘आकांक्षी जिला कार्यक्रम’ का मकसद हमारे देश के विभिन्न क्षेत्रों का समावेशी और समग्र विकास सुनिश्चित करना है। इस कार्यक्रम के तहत कई जिलों में आमूल-चूल परिवर्तन हुए हैं। यह देखकर प्रसन्नता हुई कि यूएनडीपी की रिपोर्ट में इसकी प्रमुख विशेषताओं को रेखांकित किया गया है।’’
यूएनडीपी की रिपोर्ट को स्वीकार करने पर मोदी को धन्यवाद देते हुए भारत में विश्व निकाय की प्रतिनिधि शोको नोदा ने कहा कि प्रभावी नीतियां गरीबी को समाप्त करने और किसी को भी पीछे नहीं छोड़ने के लिए अहम हैं।
उन्होंने कहा, ‘‘एडीपी जीवनस्तर को सुधारने के लिए अहम पहल है और हम बेहतर भविष्य के निर्माण के लिए नीति आयोग के साथ मिलकर काम करना जारी रखेंगे।’’
उनके ट्वीट का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि स्थायी और समावेशी विकास को प्राप्त करने के लिए सामूहिक प्रयास अहम है।


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Recommended News