See More

वित्तीय कामकाज में कार्यकुशलता बढ़ाने के लिये स्वचालन प्रमुख उपाय: रिपोर्ट

2020-09-16T21:59:56.027

नयी दिल्ली, 16 सितंबर (भाषा) कंपनियों के लिये वित्तीय कार्यों में अधिक-से-अधिक दक्षता प्राप्त करने और गैर-महत्वपूर्ण गतिविधियों में लगने वाले समय को कम करने के लिये स्वचालन (आटोमेशन) सबसे महत्वपूर्ण जरिया है। चार्टर्ड एकाउंटेंट की संस्था भारतीय सनदी लेखाकार संस्थान (आईसीएआई) और इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स इन इंग्लैंड एंड वेल्स (आईसीएईडब्ल्यू) ने बुधवार को एक संयुक्त रिपोर्ट में यह कहा गया है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्तीय परिचालन में दक्षता, डेटा और डिजिटल बदलाव तथा नियंत्रण और अनुपालन में सुधार स्वचालन के कुछ लाभ हैं। इसमें स्वचालन और कर्मचारियों की संख्या के बीच संबंध का भी पता लगाया गया। यह पाया गया कि अधिकतर नौकरियां कई अलग-अलग कार्यों के लिये होती हैं और स्वचालन समूचे कार्य को करने के बजाय इनमें से कुछ कार्यों को करता है।

‘वित्त कार्यों में स्वचालन: भारत और यूके से मिले सबक’ शीर्षक से जारी इस रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘...अर्थात स्वचालन रोजगार समाप्त करने के बजाए, उसे नया रूप देता है।’’
आईसीएआई के अध्यक्ष अतुल कुमार गुप्ता ने कहा, ‘‘कृत्रिम मेधा (एआई), रोबोटिक प्रोसेस ऑटोमेशन, ब्लॉकचेन प्रौद्योगिकी और इंटरनेट आधारित उत्पादों (इंटरनेट ऑफ थिंग्स) समेत अन्य प्रौद्योगिकियों के आने के साथ सभी के लिये इसको लेकर आंखे खुली रखने और तकनीकी नवप्रर्वतनों को लेकर पहल करना व्यवसाय के संचालन में निरंतर सुधार के लिए आवश्यक है।’’
उन्होंने कहा कि जहां भी स्वचालन की बात होती है वहां आमतौर पर रोजगार समाप्त होने को लेकर चिंता जतायी जाती है। रिपोर्ट में खासकर डाटा और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में वित्तीय टीम के कौशल को निखारने और प्रशिक्षण पर जोर दिया गया है ताकि वे नये परिवेश के हिसाब से स्वयं को ढाल सके।

गुप्ता ने कहा, ‘‘ज्यादादतर शोध में यह बात सामने आयी कि स्वचालन नौकरियों को समाप्त करने के बजाए उसे नया रूप ही देता है।’’
रिपोर्ट के अनुसार, स्वचालन वित्त में व्यापक डिजिटल परिवर्तन को सक्षम बनाता है और सफल स्वचालन अक्सर छोटे पैमाने पर होता है और प्रक्रिया में सुधार से जुड़ा होता है।
इसमें कहा गया है कि स्वचालन में कभी-कभी महंगे साफ्टवेयर की जरूरत हो सकती है लेकिन कई सस्ते उपकरण है जिसके लिये प्रोग्रामिंग स्तर के कौशल की जरूरत नहीं है।


यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

Edited By

PTI News Agency

Related News