मकर संक्रांति स्पेशल: स्नान दान के दौरान किन मंत्रों का जाप करें

ये नहीं देखा तो क्या देखा (VIDEO)
15 जनवरी को देशभर में मकर संक्रांति का त्योहार मनाया जाएगा। मान्यताओं के अनुसार इस त्योहार को सूर्य के उत्तरायण की खुशी में मनाया जाता है। बता दें कि उत्तरायण सूर्य की दशा होती है। उत्तरायण शब्द दो शब्दों (उत्तर + अयन) के मेल से बना है। इसका शाब्दिक अर्थ है उत्तर में गमन। ज्योतिष के अनुसार उत्तरायण की दशा में पृथ्वी के उत्तरी गोलार्ध में दिन लंबे होते जाते हैं और राते छोटी। उत्तरायण का आरंभ 21 या 22 दिसंबर होता है। यह दशा 21 जून तक रहती है। उसके बाद पुनः दिन छोटे और रात लंबी होती जाती है। वैसे कहा जाता है कि मकर संक्रांति उत्तरायण से अलग है। मकर संक्रांति वर्तमान शताब्दी में 14 जनवरी को होती है। इस साल स्नानदान का पर्व मकर संक्रांति 14 और 15 जनवरी को मनाया जाएगा। दरअसल, सूर्य का मकर संक्रांति राशि में प्रवेश 14 जनवरी की रात्रि में होगा,जिस कारण इसका विशेष पुण्यकाल 15 जनवरी को सूर्योदय से शुरू हो जाएगा, जो शाम तक रहेगा।
PunjabKesariइस संक्रांति में स्नान का बड़ा महत्व बताया है। कहा जाता है कि इस दिन किसी पवित्र नदी में स्नान करने से अक्ष्य पुण्य की प्राप्ति होती है। परंतु इस दिन अगर स्नान दान के साथ-साथ कुछ उपाय और मंत्रों का जाप किया जाए तो और भी अधिक फायदा होता है। 

इस त्योहार के दिन भगवान सूर्य की पूजा का अधिक महत्व रहता है। इसलिए कहा जाता है कि इस दिन सूर्य भगवान से जुड़े कुछ उपाय आदि किए जाते हैं, ताकि उनकी कृपा मिल सके।
PunjabKesariतो आइए आज हम आपको कुछ ऐसे ही उपाय और मंत्रों के बारे में बताते हैं, जिन्हें करने से आप पर सूर्य देव आप पर प्रसन्न हो कर आप पर पैसों की बारिश करेंगे।

इन 7 आसान उपायों को करने से सूर्य भगवान करेंगे आप पर छप्पर फाड़ के धन की वर्षा-

कुंडली में सूर्य नीच की स्थिति में हो तो वे मकर संक्रांति के दिन अपने घर में सूर्य यंत्र की स्थापना करके पूजन करें  और इस सूर्य मंत्र का 501 बार जाप करें। ज्योतिष के अनुसार ऐसा करने से कुंडली के सभी दोष खत्म होते हैं और धन संबंधी हर समस्या दूर हो जाती है।
PunjabKesariमंत्र-।। ॐ घृणि सूर्याय नम: ।।

मकर संक्रांति के दिन सुबह उगते हुए सूर्य को तांबे के लोटे में कुंकुम, लाल फूल एवं गंगाजल मिले जल से अर्घ्य देते हुए मंत्र ॐ घृणि सूर्याय नम: का 108 बार उच्चारण करें।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस दिन गुड़ और कच्चे चावल बहते हुए जल में प्रवाहित करना भी बहुत माना जाता है। इसके अलावा सूर्य देव को खुश करने के लिए पके हुए चावल में गुड़ और दूध मिलाकर ज़रूर खाएं।

इस दिन तांबे का सिक्का या तांबे का चौकोर टुकड़ा बहते जल में प्रवाहित करने से कुंडली में स्थित सूर्य दोष कम होता है।

ज्योतिष के अनुसार मकर संक्रांति के दिन सुबह सूर्योदय के समय खुले आकाश मे कुश के आसन पर बैठकर सूर्य देव का पंचोपचार पूजन करें, गुड़ का भोग लगाएं, लाल फूल अर्पित करने के बाद लाल चंदन की माला से इस मंत्र का एक हजार बार जप करें। इस उपाय से प्रसन्न होकर भगवान सूर्य इतना धन प्रदान करते हैं कि 7 पीढ़ियों से भी खत्म न हो।
PunjabKesari

मंत्र- ।। ॐ भास्कराय नम: ।।

मकर संक्रांति के दिन सूर्योदय और सूर्यास्त के समय रुद्राक्ष की माला से इस मंत्र का जप करने से हर कामना सिद्ध हो जाती है।
PunjabKesariमंत्र- ।। ॐ आदित्याय विदमहे दिवाकराय धीमहि तन्न: सूर्य: प्रचोदयात् ।।
शाम को किया गया ये एक काम घर में पैसों की बारिश कराता है (VIDEO)

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!