अब SFJ की नजरें पंजाब के गरीब, अशिक्षित नौजवानों पर

जालन्धर(धवन):खालिस्तान समर्थक तत्वों ने पाकिस्तान में प्रचार तेज कर दिया है। पिछले कुछ महीनों से पाकिस्तान में खालिस्तानी समर्थकों की गतिविधियां तेज होने के संकेत इंटैलीजैंस एजैंसियों को मिल रहे हैं। पंजाब के डी.जी.पी. सुरेश अरोड़ा का भी मानना है कि सिख फॉर जस्टिस संगठन जो रिफ्रैंडम 2020 के लिए कार्य कर रहा है, की नजरें पंजाब के गरीब, अशिक्षित नौजवानों पर है ताकि उन्हें गुमराह करके हिंसा के रास्ते पर भेजा जा सके परन्तु पंजाब का नौजवान अब पूरी तरह से सतर्क है। खालिस्तानी तत्वों को जनता से सहानुभूति बिल्कुल नहीं मिल रही है। 

खालिस्तान समर्थकों ने पाकिस्तान में जाने वाले भारतीय श्रद्धालुओं पर भी नजरें गड़ाई हुई हैं। हर वर्ष पाकिस्तान में स्थित तीर्थ स्थानों के दर्शनों के लिए भारी गिनती में भारतीय श्रद्धालु जाते हैं। सिख फॉर जस्टिस संगठन की अब कोशिश है कि उसे लाहौर में कोई ऐसा स्थान मिल जाए जहां वह अपना कार्यालय स्थापित कर सके। केंद्रीय विदेश मंत्रालय ने भी 23 नवम्बर को कहा था कि जब भी भारतीय श्रद्धालु पाकिस्तान जाते हैं तो साम्प्रदायिक विद्वेष, असहनशीलता व देश विरोधी बातें करके उन्हें भड़काने की कोशिशें की जाती हैं। भारतीय सुरक्षा अधिकारियों का यह भी मानना है कि पाकिस्तान की एजैंसी आई.एस.आई. का इन खालिस्तानी तत्वों को पूरा समर्थन हासिल है।

सिख फॉर जस्ट्सि संगठन ने 12 अगस्त को लंदन से पंजाब विरोधी अभियान शुरू किया था। इस संगठन ने 2019 में पाकिस्तान में कई कार्यक्रम आयोजित करने की योजना बनाई हुई है। अब इस संगठन ने नवम्बर 2019 में करतारपुर साहिब या ननकाना साहिब में से एक स्थान पर कन्वैंशन करने का निर्णय लिया हुआ है। इसे देखते हुए भारतीय इंटैलीजैंस व सुरक्षा एजैंसियां भी सतर्क हैं तथा इस संगठन की गतिविधियों पर पूरी नजर रखी जा रही है। 
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!