पंजाब की 12 जेलों में फुल बॉडी स्कैनर लगेंगे

जालन्धर(धवन):जेलों को नशीले पदार्थों व मोबाइल फोनों से दूर रखने के लिए पंजाब सरकार ने गंभीर प्रयास शुरू कर दिए हैं। सरकारी हलकों से पता चला है कि इसके लिए 12 जेलों की पहचान की गई है जहां पर फुल बॉडी स्कैनर स्थापित किए जा रहे हैं। सरकारी सूत्रों ने बताया कि जेल मंत्री सुखजिंद्र सिंह रंधावा ने इस संबंध में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह से बातचीत की थी जिन्होंने रंधावा को जेलों में सुधार को लेकर कदम उठाने के लिए कह दिया है। 

सरकारी हलकों ने बताया कि सरकार के नोटिस में यह बात आई थी कि अभी भी कुछ जेलों में नशीले पदार्थ पहुंच रहे हैं जिन पर रोक लगाने के लिए जरूरी है कि सुरक्षा को लेकर और सख्त कदम उठाए जाएं। इसीलिए ए.डी.जी.पी. रोहित चौधरी ने संवेदनशील 12 केंद्रीय जेलों के प्रवेश द्वारों पर फुल बॉडी स्कैनर लगाने का सुझाव दिया था जिसे सरकार ने मंजूर कर दिया है। फुल बॉडी स्कैनर के तहत जेलों के अंदर अवैध रूप से नशीले पदार्थों व मोबाइल फोनों को पहुंचने से रोका जा सकेगा। 

विभाग ने सभी राज्यों की जेलों में डॉग्स स्क्वैड पहले ही भेजे हुए हैं जो गैर-कानूनी पदार्थों को पकडने में जेल स्टाफ की मदद कर रहे हैं। बताया जाता है कि पंजाब सरकार ने केंद्र से जेलों के आधुनिकीकरण के लिए विशेष फंडों की मांग की है। ए.डी.जी.पी. रोहित चौधरी ने जेलों में सुरक्षा को बढ़ाने के संबंध में एक व्यापक रिपोर्ट भी तैयार की हुई है। यह रिपोर्ट 2016 में नाभा जेल ब्रेक की घटना के बाद तैयार की गई थी।

इस समय जेलों में 4-जी जैमर लगाने के विषय पर भी विचार चल रहा है। बताया जा रहा है कि नए उपकरणों का ट्रायल अगले सप्ताह किया जाएगा तथा अगर वह सफल रहते हैं तो फिर सबसे पहले पटियाला की केंद्रीय जेल में जैमर स्थापित कर दिए जाएंगे। उसके बाद इस प्रोजैक्ट को राज्य के अन्य हिस्सों में ले जाया जाएगा। सभी जेलों को अद्र्धसैनिक बलों के हवाले करने पर भी गंभीरता से सरकार चर्चा कर रही है।  


 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!