गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड के लिए प्लास्टिक थैलियों से बनाया ‘मृत समुद्र’

काठमांडूः नेपाल में पर्यावरण को लेकर जागरुकता और गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड बनाने के लिए बुधवार को प्लास्टिक थैलियों की सबसे बड़ी‘मृत सागर’के रूप में संरचना बनाई गई। यह संरचना राजधानी के मध्य भाग में टुंडिकेल में मृत सागर के रूप में बनाई गई जिसमें करीब 88,000 प्लास्टिक थैलियों का इस्तेमाल किया गया। इसका विषय‘एक मृत सागर हमारे लिए पर्याप्त है’ रखा गया। जागरुकता के इस अनोखे प्रयास की सोशल मीडिया पर खूब चर्चा हो रही है। 

पर्यावरण विभाग और विभिन्न संगठनों के सहयोग से गैर-सरकारी संगठन एसटीईएम फाउंडेशन नेपाल के तत्वावधान में मृत सागर का निर्माण 20 मीटर लंबा और 5 मीटर चौड़ा क्षेत्र में किया गया। आयोजक के अनुसार इसके निर्माण का उद्देश्य जागरूकता बढ़ाना है, इसके लिए नारा दिया गया,‘आओ अधिक प्लास्टिक का उपयोग न करें और जीवित समुद्र को मृत सागर में परिवर्तित न करें‘। 
PunjabKesari
एसटीईएम फाउंडेशन नेपाल के सदस्य सुमन गिरि ने कहा हमलोगों को बढ़ते प्लास्टिक प्रदूषण से नदियों एवं प्राकृतिक संसाधनों की रक्षा करने की जरूरत है क्योंकि प्लास्टिक न तो पूरी तरह जलता है और न ही मिट्टी में अवशोषित होता है। गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड के अनुसार 2012 में सिंगापुर में 68,000 प्लास्टिक थैलियों से ऑक्टोपस की सबसे बड़ी आकार बनाई गई थी। यह आकृति ऐसे समय बनाई गयी जब नेपाल सरकार बार-बार प्रयासों के बावजूद प्लास्टिक थैलियों पर प्रतिबंध लगाने में नाकाम रही है।

प्लास्टिक बैग विनियमन और नियंत्रण निर्देश-2016 के तहत 30 माइक्रोन से नीचे प्लास्टिक बैग के उत्पादन, बिक्री और उपयोग को प्रतिबंधित करता है। रिपोर्ट के मुताबिक एक अरब से अधिक प्लास्टिक थैलियों का एक बार इस्तेमाल किया जाता है और हर दिन काठमांडू घाटी में फेंक दिया जाता है और अब यह 11 प्रतिशत से अधिक अपशिष्ट का निर्माण करता है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!