HC का केजरीवाल सरकार को झटका, दिल्लीवासियों को अस्पताल में नहीं मिलेगी प्राथमिकता

नेशनल डेस्क: दिल्‍ली हाईकोर्ट ने आज अपने एक आदेश से केजरीवाल सरकार को बड़ा झटका दिया है। न्यायालय ने राजधानी के गुरु तेगबहादुर अस्पताल में इलाज के लिए दिल्लीवासियों को अन्य लोगों के मुकाबले तरजीह देने संबंधी आप सरकार के परिपत्र को शुक्रवार को रद्द कर दिया। 
PunjabKesari
मुख्य न्यायाधीश राजेन्द्र मेनन और न्यायमूर्ति वी के राव की पीठ ने दिल्ली की आम आदमी सरकार की इस पायलट परियोजना को चुनौती देने वाली एक एनजीओ की याचिका पर फैसला सुरक्षित रख लिया था। अदालत इसपर विचार कर रही थी कि अन्य लोगों के मुकाबले जीटीबी में इलाज के लिए दिल्लीवासियों को तरजीह देने की आप सरकार की योजना संविधान प्रदत समानता और जीवन के अधिकार का उल्लंघन करती है या नहीं।

PunjabKesari
सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने कहा कि दिल्ली सरकार का आदेश मनमाना और तर्कहीन है। दिल्ली देश की राजधानी है और देश के किसी भी मरीज को यहां के अस्पतालों में इलाज के लिए मना नहीं किया जा सकता। यह सर्कुलर समानता के अधिकार और जीने के हक के खिलाफ है। इसीलिए हम इसे रद्द कर रहे हैं। कोर्ट ने इस मामले में याचिकाकर्ता के इस तर्क को माना कि सरकारी अस्पतालों में इलाज कराने वाले ज्यादातर मरीज गरीब होते हैं और सरकारी अस्पताल इनके लिए आख़िरी विकल्प होते हैं। 
PunjabKesari

हाईकोर्ट का यह आदेश दिल्ली सरकार को तुरंत प्रभाव से लागू करना होगा, यानी अब जीटीबी अस्पताल से दिल्ली सरकार को तुरंत उन होर्डिंग्स को हटाना होगा, जिनमें बाहर से आने वाले लोगों के इलाज की मनाही संबंधी बात लिखी है। अगर अस्पताल का प्रशासन इस आदेश के बाद दिल्ली के बाहर से आए किसी भी मरीज को इलाज से मना करता है तो यह कोर्ट की अवमानना मानी जाएगी। 
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!